Home /News /career /

UPSC Exam: कैसे बनते हैं IAS, IPS या IFS ऑफिसर? इन फैक्टर्स से समझें प्रोसेस

UPSC Exam: कैसे बनते हैं IAS, IPS या IFS ऑफिसर? इन फैक्टर्स से समझें प्रोसेस

सिविल सेवा में ऐसे मिलते हैं पद

सिविल सेवा में ऐसे मिलते हैं पद

UPSC Exam, IAS Officer: यूपीएससी (UPSC Full Form) यानी संघ लोक सेवा आयोग हर साल आईएएस (IAS Officer), आईपीएस (IPS Officer), आईएफएस (IFS Officer) और आईआरएस (IRS Officer) जैसे पदों पर योग्य कैंडिडेट्स की भर्ती करता है. यह परीक्षा काफी कठिन होती है और कई लोगों को इसे पास करने में कुछ सालों तक का समय लग जाता है. लेकिन एक बार सफल होने के बाद पूरी जिंदगी आसान हो जाती है. सिविल सेवा (Civil Services) में आने के बाद कभी पीछे मुड़कर देखने की भी जरूरत नहीं पड़ती है. इस सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) को देश की सबसे बेहतरीन सरकारी नौकरी माना जाता है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली (UPSC Exam, IAS Officer, Civil Services). हर साल लाखों उम्मीदवार सिविल सेवा परीक्षा (Civil Services Exam) की तैयारी करते हैं. सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) करने का सपना देखने वाले लोग इस परीक्षा में जरूर शामिल होते हैं (UPSC Exam). हालांकि उनमें से हर कोई सफल नहीं हो पाता है क्योंकि यह परीक्षा बहुत कठिन होती है. इस परीक्षा का आयोजन तीन चरणों में किया जाता है. लिखित परीक्षा के बाद इंटरव्यू (UPSC Interview) में भी सफल होने वाले उम्मीदवारों को आईएएस (IAS Officer), आईपीएस (IPS Officer), आईएफएस (IFS Officer) आदि सर्विसेज के लिए चुना जाता है.

    अक्सर लोगों के मन में सवाल आता है कि यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) पास करने के बाद उन्हें किस आधार पर विभिन्न पोस्ट के लिए नियुक्त किया जाता है. कैंडिडेट्स की रैंक के हिसाब से उन्हें अलग-अलग पद अलॉट किए जाते हैं. जानिए, यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में सफल होने के बाद कैसे रैंक या पद मिलता है.

    सिविल सर्विसेज में होते हैं इतने पद
    यूपीएससी में कुल 24 सर्विसे होती हैं, जिसके लिए उम्मीदवारों का चयन सिविल सेवा परीक्षा (Civil Services Exam) के जरिए किया जाता है. इन्हें दो कैटेगरी में बांटा गया है- ऑल इंडिया सर्विसेज (All India Services) और सेंट्रल सर्विसेज (Central Services) हैं. सेंट्रल सर्विस के तहत ग्रुप ए और ग्रुप बी सर्विस होती हैं.

    ग्रुप ए में शामिल हैं ये पद
    ऑल इंडिया सर्विसेज के तहत भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS Officer) और भारतीय पुलिस सेवा (IPS Officer) के अधिकारियों का चयन होता है. इनमें चुने गए लोगों को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का कैडर दिया जाता है. वहीं, केंद्रीय सेवाओं के तहत ग्रुप ए और ग्रुप बी सर्विस शामिल हैं. ग्रुप ए सर्विस के तहत भारतीय विदेश सेवा (IFS), इंडियन सिविल एकाउंट्स सर्विस, इंडियन रिवेन्यू सर्विस (IRS), इंडियन रेलवे सर्विस (IRTS और IRPS) और इंडियन इन्फार्मेशन सर्विस (IIS) के लिए अधिकारियों का चयन होता है.

    ग्रुप बी में शामिल हैं ये सर्विस
    ग्रुप बी में आर्म्ड फोर्सस हेडक्वार्टर्स सिविल सर्विस, पुडुचेरी सिविल सर्विस, दिल्ली एंड अंडमान निकोबार आइलैंड सिविल और पुलिस सर्विस (Police Service) जैसी सेवाएं शामिल हैं.

    ये भी पढ़ें:
    UPTET Exam 2021: ये हैं यूपीटीईटी परीक्षा को लेकर पूछे जाने वाले आम सवाल, जानिए इनके जवाब
    UPSC Exam Preparation Tips: यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कैसे करें? ये टिप्स आएंगे काम

    ऐसे तैयार होती है मेरिट लिस्ट
    मेंस परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले उम्मीदवारों को एक डिटेल एप्लीकेशन फॉर्म (DAF) भरना होता है, जिसके आधार पर पर्सनैलिटी टेस्ट होता है. फॉर्म में भरी गई जानकारियों के आधार पर उम्मीदवार से इंटरव्यू के दौरान सवाल पूछे जाते हैं. इंटरव्यू में मिले नंबरों को जोड़कर मेरिट लिस्ट तैयार की जाती है और इसी के आधार पर ऑल इंडिया रैंकिंग तय की जाती है.

    कैटेगरी के हिसाब से होती है रैंकिंग
    अलग-अलग कैटेगरी (General, SC, ST, OBC, EWS) की रैंकिंग तैयार की जाती है. फिर उसी के आधार पर आईएएस, आईपीएस या आईएफएस रैंक दी जाती है. टॉप की रैंक वालों को आईएएस पद मिलता है. लेकिन अगर टॉप रैंक पाने वालों का प्रिफरेंस IPS या IRS होता है तो निचली रैंक वालों को भी IAS की पोस्ट मिल सकती है.

    Tags: IAS Officer, Upsc exam

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर