Upsc civil services examination 2019: मास कम्युनिकेशन को भी ऑप्शनल विषयों में करें शामिल, स्टूडेंट्स ने उठाई मांग

News18Hindi
Updated: September 11, 2019, 11:27 AM IST
Upsc civil services examination 2019: मास कम्युनिकेशन को भी ऑप्शनल विषयों में करें शामिल, स्टूडेंट्स ने उठाई मांग
छात्रों ने UPSC अध्‍यक्ष को लिखे पत्र में लिखा, महोदय, उन छात्रों की पीड़ा की कल्पना कीजिए, जिन्होंने स्नातक और मास्टर स्तरों पर पत्रकारिता और जनसंचार की पढ़ाई की है. उन्‍हें सिविल सर्विस की परीक्षा की तैयारी के लिए किन मुश्‍किलों से गुजरना पड़ता है.

छात्रों ने UPSC अध्‍यक्ष को लिखे पत्र में लिखा, महोदय, उन छात्रों की पीड़ा की कल्पना कीजिए, जिन्होंने स्नातक और मास्टर स्तरों पर पत्रकारिता और जनसंचार की पढ़ाई की है. उन्‍हें सिविल सर्विस की परीक्षा की तैयारी के लिए किन मुश्‍किलों से गुजरना पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2019, 11:27 AM IST
  • Share this:
Upsc civil services examination 2019: पत्रकारिता एवं जनसंचार के स्‍टूडेंट्स की मांग है कि सिविल सर्विस में ऑप्‍शनल विषय के तौर पर मास कम्‍युनिकेशन विषय को भी शामिल किया जाए. इस विषय  से पढ़ाई कर रहे  स्‍टूडेंट्स ने संघ  लोक सेवा आयोग (UPSC) को पत्र लिख कर यह अपील की है कि हजारों छात्रों के हितों का ध्यान रखते हुए ' पत्रकारिता एवं जनसंचार ' को भी ऑप्शनल विषयों की सूची में शामिल किया जाए ताकि जो स्‍टूडेंट्स इस विषय में ग्रेजुएशन या पोस्टग्रेजुएशन कर रहे हैं उन्हें सिविल सर्विस परीक्षा के लिए मजबूरन दूसरा विषय ना चुनना पड़े.

छात्रों ने UPSC अध्‍यक्ष को लिखे पत्र में लिखा, महोदय, उन छात्रों की पीड़ा की कल्पना कीजिए, जिन्होंने स्नातक और मास्टर स्तरों पर पत्रकारिता और जनसंचार की पढ़ाई की है. इस विषय पर 5 साल बिताने के बाद, अगर वे सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने का फैसला लेते हैं, तो उन्हें वैकल्‍पिक पेपर के लिए एक बिल्कुल नए विषय का चयन करने के लिए मजबूर किया जाता है क्योंकि पत्रकारिता और जनसंचार 48 वैकल्पिक विषयों की सूची में शामिल नहीं है. इसकी वजह से स्‍टूडेंट्स को भारी नुकसान उठाना पड़ता है.



छात्रों ने अपने पत्र में इस विषय की प्रासंगिकता की भी चर्चा की है. उनके अनुसार 'पत्रकारिता एवं जनसंचार' इस आधुनिक समाज में सभी प्रशासनिक कार्यों के लिए काफी प्रासंगिक है क्योंकि मीडिया और अन्य संचार उपकरण हमारे जीवन के हर पहलू में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. समाज और राष्ट्र निर्माण में समाचार मीडिया और विकास संचार के महत्व को कोई भी नकार नहीं सकता.

ये भी पढ़ें: 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सरकारी नौकरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 10:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...