UPSC Success Story : चौथे प्रयास में IAS टॉपर बनीं किरण, अब लड़कियों की इस तरह कर रहीं आगे बढ़ने में मदद

किरण ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के श्रीराम कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई की है.

किरण ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के श्रीराम कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई की है.

UPSC Success Story : यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा 2017 में 120वीं रैंक हासिल करके आईएएस अधिकारी बनने वाली किरण भड़ाना की सफलता और उनके सरोकारों की कहानी प्रेरित करने वाली है. वह अब अन्य लड़कियों को भी आगे बढ़ने में मदद कर रही हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. अगर आप मन में कुछ ठान लें तो मुश्किल कुछ भी नहीं है. आपके सामने चुनौतियां आएंगी, आप असफल भी होंगे, लेकिन कोशिशें एक दिन सफलता जरूर दिलाएंगी. ये कहना है 2017 बैच से 120वीं रैंक हासिल कर IAS बनने वाली किरण भड़ाना का. किरण राजस्थान के भरतपुर से हैं. पिता अतर सिंह भड़ाना राजनीति में हैं. वे 5 भाई-बहन हैं, जिनमें किरण सबसे छोटी हैं. उनकी शुरुआती शिक्षा राजस्थान से ही हुई. किरण राजस्थान के गुर्जर समुदाय से हैं. चूंकि इस समाज में बेटियों को ज्यादा पढ़ने नहीं दिया जाता है, इसलिए उन्हें भी रोकने की कोशिश की गई. लेकिन उनके पिता ने आगे बढ़ने में हमेशा उनका साथ दिया.

ग्रेजुएशन के साथ शुरू की तैयारी

किरण ने दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) के श्रीराम कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई की. इसके बाद जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से एमए किया. ग्रेजुएशन के साथ ही सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर दी. हालांकि पढ़ाई और तैयारी, दोनों एक साथ करने में उन्हें कुछ दिक्कतें जरूर आईं. उन्होंने टाइम मैनेजमेंट से इसका हल निकाला.

चौथे प्रयास में सफल होकर बनीं IAS
किरण ने ग्रेजुएशन के बाद वर्ष 2012 में पहली बार प्रयास किया. लेकिन सफल नहीं हो सकीं. इसके बाद 2014 में दूसरा और 2015 में तीसरा प्रयास भी असफल रहा. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और कोशिश करती रहीं. वर्ष 2016 में उन्होंने चौथा प्रयास किया और इस बार वे सफल रहीं. वे 2017 में 120वीं रैंक के साथ IAS बनीं. फिलहाल वे हिमाचल प्रदेश (HP) के सलूनी में SDM पद पर तैनात हैं.

लड़कियों को आगे बढ़ने में कर रहीं मदद

किरण गुर्जर समुदाय से हैं इसलिए जानती हैं कि लड़कियों को आगे बढ़ने में किस तरह की दिक्कतें आती हैं. इसलिए अब वे न सिर्फ गुर्जर समाज, बल्कि सभी लड़कियों को आगे बढ़ने में मदद कर रही हैं. वे लड़कियों की कॉउंसलिंग करती हैं और उन्हें IAS की तैयारी भी करवाती हैं. उन्होंने सलूनी में युवाओं के लिए 7 लाइब्रेरी भी खुलवाई हैं ताकि बच्चे सही ढंग से सिविल की तैयारी कर सकें.



ये भी पढ़ें-

NEET 2021 के लिये आज जारी हो सकता है एप्‍लीकेशन फॉर्म, NTA पर एक्‍ट‍िवेट हुआ लिंक

मध्यप्रदेश में 10 से 12 दिनों के भीतर होगी 12वीं के रिजल्ट की घोषणा

सभी राज्यों की बोर्ड परीक्षाओं/ प्रतियोगी परीक्षाओं, उनकी तैयारी और जॉब्स/करियर से जुड़े Job Alert, हर खबर के लिए फॉलो करें- https://hindi.news18.com/news/career/

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज