लाइव टीवी

UP: स‍िर्फ क‍िताबी ज्ञान नहीं, यूपी के इस स्‍कूल में पढ़ाते हैं मह‍िलाओं के सम्‍मान का पाठ

News18Hindi
Updated: March 20, 2020, 12:17 PM IST
UP: स‍िर्फ क‍िताबी ज्ञान नहीं, यूपी के इस स्‍कूल में पढ़ाते हैं मह‍िलाओं के सम्‍मान का पाठ
उत्‍तर प्रदेश का कौशांबी ज‍िला, राज्‍य का पहला ऐसा ज‍िला है, ज‍िसने स्‍कूलों में मह‍िलाओं के सम्‍मान का पाठ छात्रों को पढ़ाना शुरू क‍िया है.

कौशाम्बी एक अनूठी अवधारणा को पेश करने वाला उत्तर प्रदेश का पहला जिला बन गया है, जिसमें शिक्षक छात्रों के साथ बातचीत करेंगे और उन्हें महिलाओं का सम्मान करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2020, 12:17 PM IST
  • Share this:
बचपन से ही हमें यह स‍िखाया और बताया जाता रहा है क‍ि मह‍िलाओं का सम्‍मान करें. उत्‍तर प्रदेश के कौशांबी ज‍िले के स्‍कूलों में एक नई पहल शुरू की गई है, ज‍िसमें छात्रों को मह‍िलाओं के सम्‍मान का पाठ पढ़ाया जाएगा. कौशांबी में करीब 1410 सरकारी स्‍कूलों में म‍ह‍िला सम्‍मान कक्षाएं शुरू की गई हैं. कक्षा 1 से 8वीं तक के छात्रों के ल‍िये हर द‍िन आधे घंटे की यह कक्षा आयोजित की जाती है. इस कक्षा का उद्देश्‍य, बच्‍चाें को मह‍िलाओं के सम्‍मान की सीख देना है. दरअसल, कौशांबी के सरकारी स्‍कूलों में फरवरी 2020 के दौरान इसकी शुरुआत की गई थी.

स्‍कूलों में यह कक्षा हर बुधवार को चलाई जाती है और बच्चों के मजबूत चरित्र का निर्माण करने का प्रयास क‍िया जाता है. सत्र के दौरान, शिक्षक छात्रों के साथ बातचीत करते हैं और ईव-टीजिंग जैसे मुद्दों पर चर्चा करते हैं. इसके अलावा उन्‍हें समझाया जाता है क‍ि किसी को महिलाओं, मासिक धर्म स्वच्छता और लिंग स्टीरियोटाइपिंग का सम्मान क्यों करना चाहिए.

कौशांबी ज‍िला के डीएम मनीष कुमार वर्मा ने बताया क‍ि स्‍कूलों के श‍िक्षकों और छात्रों दोनों से हमें समारात्‍मक और अच्‍छी प्रतिक्र‍िया प्राप्‍त हुई. कुछ श‍िक्षकों ने कक्षा की वीड‍ियो भी सोशल मीडिया पर अपलोड क‍िया है. यही नहीं इसके श‍िक्षक, ज्‍यादा से ज्‍यादा छात्रों को इस मुहीम से जोड़ने के ल‍िये कोर्स के मोड्यूल में कुछ बदलाव करने पर व‍िचार कर रहे हैं.

जिला अधिकारियों और बेसिक शिक्षा अधिकारियों (बीएसए) ने उन विषयों की सूची तैयार की है, जिन पर वर्ष भर इन कक्षाओं में चर्चा की जाएगी. कक्षाओं के दौरान, लड़कियों को आत्मरक्षा में प्रशिक्षित किया जाएगा. शिक्षक छात्रों को अपनी भावनाओं को साझा करने में संकोच न करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे और भाई-बहनों के साथ दोस्तों की तरह व्यवहार करने के ल‍िये प्रोत्‍साह‍ित करेंगे.



इसके साथ ही लड़कों को यह स‍िखाया जाएगा क‍ि घर के काम में भी वह अपनी बहनों और मां की मदद करें. बेस‍िक श‍िक्षा अध‍िकारी (कौशांबी) राज कुमार पंड‍ित ने कहा क‍ि स्‍पेशल कक्षाओं को लेकर प्राइवेट स्‍कूलों ने भी द‍िलचस्‍पी द‍िखाई है. उन्‍होंने कहा क‍ि अगर हम लड़कों को मह‍िलाओं का सम्‍मान करना स‍िखा सकते हैं तो समाज में मह‍िलाओं के ख‍िलाफ होने वाले अपराध में कमी आ जाएगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 12:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर