उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन ओपन यूनिवर्सिटी में पढ़ाई जाएगी वैदिक गणित

यूनिवर्सिटी की ओर से इस समय 98 कोर्स करवाए जा रहे हैं. दैनिक व्यस्तता के चलते जो लोग उच्च शिक्षा से वंचित रह जाते हैं, ऐसे लोगों के लिए ये कोर्स काम आएंगे

News18Hindi
Updated: July 12, 2018, 5:55 PM IST
उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन ओपन यूनिवर्सिटी में पढ़ाई जाएगी वैदिक गणित
यूनिवर्सिटी में भूगोल पढ़ाने की भी मिली मंजूरी
News18Hindi
Updated: July 12, 2018, 5:55 PM IST
उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन ओपन यूनिवर्सिटी में अब भूगोल, पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, होम साइंस और पोषण विज्ञान में भी ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन किया जा सकेगा. वैदिक गणित भी पढ़ाई जाएगी. इसमें सर्टिफकेट कोर्स के साथ-साथ डिप्लोमा भी होगा. इस बात की जानकारी यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो. केएन सिंह ने दी. प्रो. सिंह नोएडा के सेक्टर-62 स्थित क्षेत्रीय केंद्र का निरीक्षण करने आए थे.

सिंह ने कहा “वैदिक गणित पढ़ाने का मुख्य मकसद गणित के क्षेत्र में वैदिक काल में मौजूद विधाओं को पुनर्जीवित करना है.” उन्होंने बताया कि योग के पाठ्यक्रम में यूनिवर्सिटी के सभी 11 केंद्रों पर अभ्यास करवाया जाएगा. सर्टिफकेट कोर्स के लिए 4 दिन, डिप्लोमा के लिए 5 और पीजी डिप्लोमा के लिए 6 दिन का कोर्स होगा. जिसमें सभी छात्रों का आना जरूरी होगा.

उसी के अंतिम दिन ग्रेडिंग हो जाएगी. इसमें दो सत्र होंगे. पहले में आसन, प्राणायाम होगा और दूसरे में वैदिक सत्र होगा. जिसमें देश-समाज से जुड़े किसी ज्वलंत विषय पर व्याख्यान कराया जाएगा. सिंह ने बताया कि यूनिवर्सिटी की ओर से इस समय 98 कोर्स करवाए जा रहे हैं. अपनी दैनिक व्यस्तता के चलते बहुसंख्यक लोग ऐसे हैं जो उच्च शिक्षा से वंचित रह जाते हैं, ऐसे लोगों के लिए ये कोर्स काम आएंगे.

 उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय, UPRTOU, Uttar Pradesh Rajarshi Tandon Open University, geography, भूगोल, public administration, लोक प्रशासन, Nutrition Science, पोषण विज्ञान, Vedic Mathematics, वैदिक गणित, noida, नोएडा, distance education, डिस्टेंस एजुकेशन, Higher Education, उच्च शिक्षा, Prof. K.N. Singh. Prof. Kameshwar Nath Singh, प्रोफेसर कामेश्वर नाथ सिंह        वाइस चांसलर प्रो. केएन सिंह

प्रो. सिंह ने कहा, उच्च शिक्षा को सर्व सुलभ बनाना हमारी शीर्ष प्राथमिकता है. इसको कार्य रूप देने के लिए यूनिवर्सिटी के सभी क्षेत्रीय केंद्रों पर कार्यशाला आयोजित की जाएगी, जिसका विषय होगा 'मुक्त शिक्षा की चुनौतियां एवं संभावनाएं'. प्रथम कार्यशाला 15 जुलाई को राजकीय पीजी कॉलेज गाजीपुर में होगी. दूसरी नोएडा, मेरठ, बरेली एवं आगरा क्षेत्र को मिलाकर 25 जुलाई को दीन दयाल शोध संस्थान मथुरा में होगी.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर