बड़ी बात: इस राज्य में जल्द खुलेगा 'स्पेशल' स्कूल, मुख्यमंत्री ने किया ये ऐलान

बड़ी बात: इस राज्य में जल्द खुलेगा 'स्पेशल' स्कूल, मुख्यमंत्री ने किया ये ऐलान
मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 15 अगस्त के बाद स्कूल खोले जाने के संकेत दिए थे.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर के बीच स्कूल खुलने को लेकर अच्छी खबर सामने आई है. महामारी के चलते पिछले चार महीने से देशभर के स्कूल-कॉलेज (Schools-Colleges) बंद हैं.

  • Share this:
देहरादून. कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों के बीच उत्तराखंड (Uttarakhand) के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अहम ऐलान किया है. सीएम रावत ने घोषणा की है कि प्रदेश में मेधावी छात्र-छात्राओं के लिए एक स्कूल खोला जाएगा, जिसमें ऐसे बच्चों को मुफ्त शिक्षा मिलेगी जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं और पैसों की तंगी की वजह से उच्च शिक्षा का खर्च वहन नहीं कर सकते. टाइम्सनाउ की रिपोर्ट के अनुसार इस अनूठी पहल का ऐलान खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) ने राज्य सरकार के ई-संवाद कार्यक्रम के दौरान किया है.

चमोली का छात्र लंदन स्कूल आफ आर्ट में...
मुख्यमंत्री ​त्रिवेंद्र सिंह रावत के अनुसार, इस स्कूल में एडमिशन के लिए स्टूडेंट्स को राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा पास करनी होगी. ये स्कूल छठी से लेकर 12वीं कक्षा तक होगा. सीएम ने चमोली के एक स्टूडेंट का उदाहरण देते हुए बताया कि कैसे उसे लंदन स्कूल आफ आर्ट में एडमिशन मिल गया. उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने उस स्टूडेंट की पढ़ाई की व्यवस्था की.

सिर्फ आर्थिक रूप से सक्षम बच्चों से ही ली जाएगी फीस
योजना के तहत स्कूल में उन्हीं बच्चों से फीस ली जाएगी, जो फीस देने में सक्षम होंगे. इन पैसों का इस्तेमाल भी गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने में किया जाएगा. ई-संवाद कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने नेशनल लॉ कॉलेज खोलने की अपनी योजना का भी खुलासा किया. इसके अलावा पोस्ट ग्रेजुएट्स स्टडी के लिए राज्य में रेजीडेंशियल साइंस कॉलेज खोलने की बात भी कही.



ये भी पढ़ें
बड़ी बात: देशभर के 43 लाख स्टूडेंट्स को छोड़नी पड़ सकती है पढ़ाई, ये है वजह
MP Board 12th Result 2020: MP बोर्ड 12वीं के रिजल्ट से जुड़ी 10 बातें

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस मौके पर पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को सभी के लिए प्रेरणा बताते हुए कहा, अब्दुल कलाम सेना में न चुने जाने से निराश नहीं हुए. बल्कि ऋषिकेश गए वहां एक संत से मार्गदर्शन लिया और देश के सबसे बेहतरीन वैज्ञानिक और फिर राष्ट्रपति तक बने.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading