Cricket Stars Education: क्या आपको पता है कितने पढ़े-लिखे हैं विराट और धोनी

'पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब, खेलोगे-कूदोगे तो होगे खराब' ये कहावत हमारे क्रिकेटर पर फिट नहीं बैठती.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 9:39 AM IST
Cricket Stars Education: क्या आपको पता है कितने पढ़े-लिखे हैं विराट और धोनी
विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 9:39 AM IST
Cricket Stars Education: इंडियन क्रिकेट टीम के कप्‍तान विराट कोहली और टीम इंडिया के विकेट कीपर महेंद्र सिंह धोनी का का कमाल क्रिकेट के पिच पर खूब देखा होगा. लेकिन क्या आप जानते हैं पढ़ाई में ये कैसे थे. जानिए इन क्रिकेटर ने कितनी पढ़ाई की है.

विराट कोहली 5 नवंबर 1988 को दिल्ली की पंजाबी फैमिली में जन्मे. इनके पिता प्रेम कोहली पेशे से क्रिमिनल लॉयर थे. मां सरोज कोहली हाउस वाइफ हैं. विराट के बड़े उनके 1 भाई और 1 बहन भी हैं. विराट के परिवार के मुताबिक, जब कोहली 3 साल के थे, तब उन्होंने क्रिकेट बैट उठाया और उसे घुमाने लगे. उन्होंने अपने पिता से उनकी ओर बॉल देने के लिए भी कहा.

कोहली का घर दिल्ली के उत्तम नगर में था, उनकी स्कूल एजुकेशन विशाल भारती पब्लिक स्कूल से शुरू हुई. 1998 में वेस्ट दिल्ली क्रिकेट अकादमी शुरू हुई. तब कोहली नौ साल के थे. इस अकादमी की शुरुआत से ही कोहली इससे जुड़ गए थे.



विराट के पिता उन्हें पड़ोसियों की सलाह के बाद अकादमी ले गए थे. उनके पड़ोसियों का कहना था कि विराट को gully क्रिकेट में टाइम वेस्ट करने के बजाय प्रोफेशनल क्लब जॉइन कराना चाहिए. 9वीं क्लास में विराट को पश्चिम विहार के Saviour Convent स्कूल में शिफ्ट किया गया, ताकि उन्हें क्रिकेट प्रैक्टिस में मदद मिल सके. उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई यहीं की. इसके बाद उन्हें अकादमी के जरिए बेहतर स्कॉप मिलता गया और वे आगे बढ़ते गए. वे पहली बार दिल्ली अंडर-15 टीम में अक्टूबर 2002 में खेले.

बचपन से हम कहावत सुनते हैं आ रहे हैं 'पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब, खेलोगे-कूदोगे तो होगे खराब' लेकिन ये कहावत हमारे क्रिकेटर पर फिट नहीं बैठती. क्योंकि खेलकर ही ये क्रिकेटर पूरी दुनिया में देश का नाम रौशन कर रहे हैं.

टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली को पढ़ाई के लिए ज्यादा वक्त नहीं मिला, उन्होंने 12वीं तक ही पढ़ाई की. महेंद्र सिंह धोनी ने रांची से 12वीं तक की पढ़ाई की, उसके बाद उन्होंने बीकॉम में एडमिशन लिया हालांकि उनका बीकॉम पूरा नहीं हो पाया.
Loading...

ये भी पढ़ें-
Sarkari naukri: IIT कानपुर में सीनियर प्रोजेक्ट एग्जिक्यूटिव इंजीनियरिंग के लिए वैकेंसी
Sarkari naukri: नीति आयोग ने निकाली नौकरी, सैलरी 2 लाख रुपए महीना
IPS success story: 35 सरकारी नौकरियों के एग्जाम में हुआ था फेल, अब 104वीं रैंक के साथ क्लियर किया UPSC एग्जाम
First published: July 28, 2019, 6:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...