West Bengal Board Result 2020: रोज 16 घंटे की पढ़ाई... फिर पश्चिम बंगाल बोर्ड एग्जाम में किया टॉप

West Bengal Board Result 2020: रोज 16 घंटे की पढ़ाई... फिर पश्चिम बंगाल बोर्ड एग्जाम में किया टॉप
इस बार कोरोना वायरस के चलते नतीजे जारी करने में देरी हुई है.

दसवीं क्लास के नतीजे बुधवार 15 जुलाई को जारी किए गए. 12वीं के नतीजों का ऐलान शुक्रवार 17 जुलाई को दोपहर 3.30 बजे किया जाएगा.

  • Share this:
पश्चिम बंगाल बोर्ड (West Bengal Board) ने दसवीं क्लास के नतीजे बुधवार 15 जुलाई को जारी किए. 12वीं के नतीजों का ऐलान शुक्रवार 17 जुलाई को दोपहर 3.30 बजे किया जाएगा. दसवीं क्लास के नतीजो के लिए जारी की गई मेरिट लिस्ट के मुताबिक, अरित्रा पाल ने टॉप किया. अत्रिता ने कुल 99.14 फीसदी स्कोर किया.

रोजाना 16 घंटे तक अध्ययन करने से लेकर स्केचिंग से अपना तनाव कम करना. परीक्षा में टॉप करने के अपने सफर को अरित्रा ने शेयर किया है, जानिए उनकी कहानी.

पुरबा बर्धमान जिले के मेमारी विद्यासागर मेमोरियल स्कूल के छात्र अरित्रा पाल ने पूरे शैक्षणिक वर्ष में मेहनत से पढ़ाई की. कक्षा 5 से उसने अपनी कक्षा में टॉप किया. स्कूल के शिक्षकों को विश्वास था कि वह राज्य में टॉप 10 रैंक में जरूर जगह बनाएगा. उनके माता-पिता और शिक्षक साल भर सहयोगी रहे.
अरित्रा की तैयारी की रणनीति
अरित्रा ने पूरे साल 16-17 घंटे प्रतिदिन अध्ययन किया. लेकिन परीक्षा से पहले इसे कम करके 10-12 घंटे कर दिया. ऐसे उन्होंने अपनी memorizing power को स्ट्रेस से बचाने के लिए किया.



अपने खाली समय के दौरान, उन्होंने एफएम रेडियो पर कहानियां सुनीं और स्कैच किया. स्कूल के शिक्षकों के अलावा, उन्होंने गणित, फिजिकल साइंस, लाइफ साइंस और अंग्रेजी के लिए ट्यूशन लिया. उन्होंने अपने पाठ्यक्रम को विभाजित किया और परीक्षा के लिए अध्ययन दिनचर्या (study routine) बनाई.

मीडिया से बात करते हुए, अरित्रा ने कहा कि उन्हें राज्य में टॉप 10 में रैंक करने की उम्मीद थी, लेकिन पहले स्थान को हासिल करना एक चमत्कार है. उनके माता-पिता, स्कूल के शिक्षक सफलता से बहुत खुश हैं.

ये भी पढ़ें-
एग्जाम से एक घंटे पहले हुई पिता की मौत, बोर्ड परीक्षा में पाए 88 नंबर
CBSE Board results 2020: जुड़वां बहनों के सभी सब्जेक्ट्स में एक समान नंबर


वह आगे गणित और केमिस्ट्री में पढ़ाई कर इसमें कुछ शोध कार्य करना चाहते हैं. इसके अलावा दूसरे विकल्प के तौर पर वे मेडिकल का विकल्प चुनने पर भी विचार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज