लाइव टीवी

PM मोदी ने इसरो के 'युवा विज्ञानी कार्यक्रम' की मन की बात में किया जिक्र, जानिए क्या है इसरो का युविका

News18Hindi
Updated: February 23, 2020, 11:38 AM IST
PM मोदी ने इसरो के 'युवा विज्ञानी कार्यक्रम' की मन की बात में किया जिक्र, जानिए क्या है इसरो का युविका
पीएम मोदी. (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की तारीफ की. इसरो दूसरी बार 'युवा विज्ञानी कार्यक्रम' युविका-2020 आयोजित करने जा रहा है. इसमें देश के आठवीं से 10वीं तक के स्टूडेंट आवेदन कर सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2020, 11:38 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मन की बात के 62वें संस्करण में इसरो की तारीफ की. पीएम मोदी ने कहा कि इसरो देश के युवाओं को विज्ञान और तकनीक से जोड़ने के लिए 2019 में इस कार्यक्रम की शुरुआत की थी. आइए जानते हैं इसरो से जुड़ी हर जानकारी.

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का 'युवा विज्ञानी कार्यक्रम' क्या है इसके बारे में हम आपको बता रहे हैं. इसरो ने पिछले साल 2019 से स्कूली बच्चों के लिए इस कार्यक्रम की शुरुआत की गई थी. इस कार्यक्रम के द्वितीय सत्र का आयोजन मई 2020 में होगा. इसरो ने स्कूली बच्चों (School Students) के लिए इस साल मई में होने जा रहे दो सप्ताह के विशेष कार्यक्रम की घोषणा की है. इसका उद्दे्श्य बच्चों में अंतरिक्ष विज्ञान (Space science) के प्रति रुचि व जागरूकता लाना है.

महत्वपूर्ण तिथियां
ऑनलाइन आवेदन की प्रारंभिक तिथि- 24 फरवरी 2020



कार्यक्रम शुरू होने की तिथि- 11 मई 2020
कार्यक्रम समाप्त होने की तिथि-22 मई 2020

कौन कर सकता है आवेदन
जिन स्टूडेंट्स ने आठवीं की परीक्षा पास कर ली है और नौवीं में पढ़ाई कर रहे हैं, वह इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आवेदन कर सकते हैं. इसके लिए सीबीएसआ/ आईसीएस या किसी भी राज्य के बोर्ड के स्टूडेंट पात्रता रखते हैं. यहां इस बात का ध्यान रखें कि आठवीं और दसकी के छात्र इस परीक्षा के लिए योग्य नहीं हैं प्रोग्राम में शामिल होने के योग्य हैं.

School Students, ISRO, Young Scientist Program, Who can apply, इसरो, 'युवा विज्ञानी कार्यक्रम' भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, स्कूली बच्चे, Space science, अंतरिक्ष विज्ञान, भारत सरकार, पीएम मोदी, स्कूल, शिक्षा, छात्र,eligibility,Application process , mportant dates
इसरो ने स्कूली बच्चों (School students) के लिए इस साल मई में होने जा रहे दो सप्ताह के विशेष कार्यक्रम की घोषणा की है.


कैसे करें आवेदन
- उम्मीदवार को सबसे पहले विभाग की वेबसाइट isro.gov.in पर जाना होगा.
- यहां ऑनलाइन युविका 2020 लिंक पर क्लिक करना होगा.
- यह लिंक आधिकारिक रूप से तीन फरवरी 2020 से ओपन होगी.
- यहां डिटेल को भरें और सबमिट कर दें.
- इसके बाद फार्म को सेव करके रख लें जो आपको भविष्य में काम आएगा.

चयन प्रक्रिया
उम्मीदवारों का चयन ऑनलाइन पंजीकरण के जरिए किया जाएगा. इसके लिए 3 से 24 फरवरी तक ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया चलेगी. ऐसे विद्यार्थी, जिन्‍होंने शैक्षणिक वर्ष 2019-20 में 8वीं कक्षा पास की है और 9वीं कक्षा में अध्ययनरत हैं, वे इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए योग्य होंगे.

School Students, ISRO, Young Scientist Program, Who can apply, इसरो, 'युवा विज्ञानी कार्यक्रम' भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, स्कूली बच्चे, Space science, अंतरिक्ष विज्ञान, भारत सरकार, पीएम मोदी, स्कूल, शिक्षा, छात्र,eligibility,Application process , mportant dates
जिन स्टूडेंट्स ने आठवीं की परीक्षा पास कर ली है और नौवीं में पढ़ाई कर रहे हैं, वह इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आवेदन कर सकते हैं.


हर राज्य से तीन छात्रों का होगा चयन
युवा विज्ञानी कार्यक्रम 11 से 22 मई तक गर्मी की छुट्टियों में आयोजित होगा. यहां पर वैज्ञानिक व्‍याख्‍यान देंगे और अनुभवों को बच्चों के साथ साझा करेंगे. इस कार्यक्रम में छात्र प्रयोगशालाओं और वहां की छासुविधाओं को देख सकेंगे. साथ ही विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श के लिए विशेष सत्र, व्‍यावहारिक एवं फीडबैक सेशन भी शामिल होंगा. इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए सी.बी.एस.ई., आई.सी.एस.ई. और राज्‍य पाठ्यक्रम को मिलाकर हर राज्‍य/संघशासित प्रदेश से तीन विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा. देश भर से प्रवासी भारतीय नागरिक (ओ.सी.आई.) अभ्यर्थियों के लिए पाँच अन्य सीटें आरक्षित हैं.

ये भी पढ़ें - Government job 2020: यहां निकली 9635 पदों पर टीचरों की वेकैंसी, 11 फरवरी के पहले करें आवेदन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करियर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 1:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,135,668

     
  • कुल केस

    1,577,445

    +59,485
  • ठीक हुए

    348,111

     
  • मृत्यु

    93,666

    +5,211
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर