Economic Survey क्या होता है? बजट आने के एक दिन पहले क्यों पेश किया जा रहा है

Economic Survey क्या होता है? बजट आने के एक दिन पहले क्यों पेश किया जा रहा है
देश का बजट आने से पहले आज 31 जनवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सदन में आर्थिक सर्वे रिपोर्ट पेश करेंगी.

मीडिया (Media) में डीडीपी ग्रोथ को लेकर हमेशा चर्कचा रहती है. ऐसे में लोगों के दिमाग में ये सवाल उठता होगा कि आर्थिक सर्वे (Economic survey) क्या होता है और बजट के एक दिन पहले इसको पेश करने का मतलब क्या है?

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 31, 2020, 1:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश का बजट आने से एक दिन पहले आज 31 जनवरी को वित्त मंत्री (Finance Minister) निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) सदन में आर्थिक सर्वे रिपोर्ट पेश करेंगी.  मोदी सरकार (Modi government) में मीडिया में इस बात की लगातार चर्चा रही है कि डीडीपी ग्रोथ कम हो रही है. ऐसे में लोगों के दिमाग में ये सवाल उठता होगा किआर्थिक सर्वे (Economic survey) क्या होता है और बजट के एक दिन पहले इसको पेश करने का मतलब क्या है? तो आइए आज हम आपके हर सवाल का जवाब दे रहे हैं.

आर्थिक सर्वे क्‍या होता है ?
आर्थिक सर्वे कोई बहुत कठिन चीज नहीं है, जो लोगों को समझ में ना आए. आसान भाषा में कह सकते हैं कि देश के आर्थिक विकास का सालाना लेखाजोखा आर्थिक सर्वे कहलाता है. इस सर्वे रिपोर्ट से आधिकारिक तौर पता चलता है कि बीते साल आर्थिक मोर्चे पर देश का क्‍या हाल रहा है. इसके अलावा सर्वे से यह भी जानकारी मिलती है कि आने वाले समय के लिए अर्थव्यवस्था में किस तरह की संभावनाएं मौजूद हैं. साथ ही देश को किस तरह की चुनौतियों से जूझना पड़ सकता है. अगर और भी आसान भाषा में कहें तो वित्त मंत्रालय की इस रिपोर्ट में भारतीय अर्थव्यवस्था की पूरी तस्वीर देखी जा सकती है. अकसर, आर्थिक सर्वे के जरिए सरकार को अहम सुझाव दिए जाते हैं. इन सिफारिशों को सरकार लागू करे या न करे यह सरकार पर निर्भर करता है.

Budget 2020,Economic survey, report,budget, economy, इकोनॉमिक सर्वे, बजट, रिपोर्ट, Economic survey, india, first economic census in india, nirmala sitaraman, finance minister, modi government, बजट 2020, आर्थिक सर्वे,आर्थिक विकास,वित्त मंत्रालय,अंतरिम बजट, मोदी सरकार
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (डिजाइन फोटो).

कैसे तैयार होता है आर्थिक सर्वे?


इस सर्वे को वित्त मंत्रालय के बड़े और जिम्मेदार अधिकारी तैयार करते हैं, जिसमें वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार और उनकी टीम शामिल होती है. इस बार मुख्य आर्थिक सलाहकर कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम हैं. ऐसे में जाहिर सी बात है कि कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम की अगुवाई में आर्थिक सर्वे रिपोर्ट तैयार की गई है. वित्त मंत्रालय के इस अहम दस्तावेज को सदन में वित्तमंत्री द्वारा पेश किया जाता है. जो आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सदन में पेश करेंगी.

आपको बता दें कि बीते साल 4 जुलाई को निर्मला सीतारमण ने अपना पहला आर्थिक सर्वे पेश किया था. इसके बाद 5 जुलाई को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आम बजट पेश किया गया था. देश में पहली बार आर्थिक सर्वे 1950-51 में जारी किया गया था और वित्त मंत्रालय की वेबसाइट पर 1957-58 से आगे के दस्तावेज भी मौजूद हैं.

Budget 2020,Economic survey, report,budget, economy, इकोनॉमिक सर्वे, बजट, रिपोर्ट, Economic survey, india, first economic census in india, nirmala sitaraman, finance minister, modi government, बजट 2020, आर्थिक सर्वे,आर्थिक विकास,वित्त मंत्रालय,अंतरिम बजट, मोदी सरकार
इस सर्वे रिपोर्ट से आधिकारिक तौर पता चलता है कि बीते साल आर्थिक मोर्चे पर देश का क्‍या हाल रहा है.


आप सर्वे को कहां देख सकते हैं?
31 जनवरी को पेश होने वाले आर्थिक सर्वे को आप लोकसभा टीवी पर लाइव देख सकते हैं. इसके अलावा पीआईबी की ऑफिशियल वेबसाइट https://pib.gov.in/indexd.aspx और https://www.indiabudget.gov.in पर भी आर्थिक सर्वे रिपोर्ट को देखा जा सकते है.

 

ये भी पढ़ें- CSIR NET Final Result 2019 : एनटीए ने दोबारा जारी किया सीएसआईआर नेट का फाइनल रिजल्ट, csirnet.nta.nic.in पर करें चेक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading