आयुष्मान भारत योजना में बड़ा फर्जीवाड़ा, एक ही परिवार के 57 लोगों की सर्जरी

10 करोड़ भारतीयों को बिना किसी प्रीमियम के प्रति वर्ष प्रति परिवार 5 लाख रुपये तक का कैशलेस कवर मिलेगा.

छत्तीसगढ़ की तरह ही उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड, गुजरात, महाराष्ट्र, झारखंड और गुजरात मिलाकर इस तरह के दो लाख से अधिक फर्जी मामले पकड़े गए हैं.

  • Share this:
    रायपुर. विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना आयुष्मान भारत (Ayushman Bharat Yojana) में बड़े फर्जीवाड़े की रिपोर्ट सामने आई है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि योजना के तहत छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh corruption) के एक ही परिवार के 57 लोगों ने अपनी आंख का ऑपरेशन करवा लिया. छत्तीसगढ़ की तरह ही उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड, गुजरात, महाराष्ट्र, झारखंड और गुजरात मिलाकर इस तरह के दो लाख से अधिक फर्जी मामले पकड़े गए हैं.

    दैनिक भास्कर में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक आयुष्मान भारत योजना के तहत दो लाख से अधिक फर्जी गोल्डन कार्ड बना दिए गए. इनसे हो रहे फर्जीवाड़े को नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के अपने आईटी सिस्टम ने पकड़ा है. इसमें बताया गया है कि यह जांच अभी अपने शुरुआती दौर में है. जांच आगे बढ़ने पर यह आंकड़ा और ज्यादा हो सकता है.

    रिपोर्ट में बताया गया है कि छत्तीसगढ़ के एएसजी अस्पताल में एक ही परिवार के 109 कार्ड बना दिए गए. इन 109 कार्ड के जरिए 57 हितग्राहियों ने अपनी आंख का ऑपरेशन भी करवा लिया. इसी तरह गुजरात के एक अस्पताल में आरोग्य मित्र ने एक ही परिवार के नाम पर 1700 लोगों के कार्ड बना दिए. इसमें दूसरे राज्यों के लोग भी सदस्य बनाए गए हैं. मध्य प्रदेश में एक परिवार के 322 कार्ड बने हैं.

    आयुष्मान योजना सितंबर 2018 में शुरू की गई थी. इस रिपोर्ट के अनुसार अब तक 70 लाख लोगों का इलाज हुआ है. इसके बदले भारत सरकार की ओर से अस्पतालों को 4,592 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है.

    यह भी पढ़ें:-

    कोरिया में हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने से महिला की दर्दनाक मौत
    देर रात एक और गोलीकांड से दहला रायपुर, व्यापारी की मौत
    समर्थन मूल्य में धान बेचना बनी किसानों की परेशानी, ये है वजह

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.