35 लड़कियां संभाल रही सालों पुरानी रामलीला की परंपरा, राष्ट्रीय स्तर तक है पहचान
Balod News in Hindi

35 लड़कियां संभाल रही सालों पुरानी रामलीला की परंपरा, राष्ट्रीय स्तर तक है पहचान
पिछले 5 सालों से इस गांव में लड़कियां रामलीला का पाठ कर रही हैं. (Demo Pic)

दूर दराज से लोग इन कलाकारों की प्रस्तुति देखने आते हैं.

  • Share this:
बालोद. आज भले ही शहरी इलाकों और कई गांवों में रामलीला (Ram Leela) की परंपरा (Tradition) खत्म होने के कगार पर आ गई है. लेकिन, बालोद (Balod) जिले का एक गांव ऐसा भी है जहां पर इस विलुप्त (Extinct) होती रामलीला की बागडोर खुद बेटियों (Daughters) ने संभाल रखी हैं. हम बात कर रहे है बालोद जिले के एक छोटे से गांव टेकापार की, जहां गांव की 35 बेटियां रामलीला में अलग-अलग किरदार निभाती हैं. बेटियों के इस जज्बे को न केवल ग्रामीण बल्कि खुद जिला प्रशासन की टीम भी मानती है और इनकी सराहना करते  हैं. हर साल वे इस रामलीला को देखने भी आते हैं. एक छोटे से इलाके में होने वाली इस रामलीला की पहचान अब इस गांव तक सिमित नहीं रही, बल्कि अब राष्ट्रीय स्तर तक इन कलाकारों ने अपनी पहचान बना लगी है. अब दूर दराज से लोग भी इनकी प्रस्तुति को देखने आते हैं.

5 सालों से बेटियां निभा रही हैं ये परंपरा

दरअसल, इस गांव में पहले सालों तक पुरुषों की मंडली ही रामलीला की प्रस्तुति देते थे. लेकिन, 5 साल पहले यहां के पुरुषों की रूचि इस दिशा में घटने लगी. ऐसे में रामलीला के मंचन को लेकर सवाल खड़े होने लगा गया कि आखिर आने वाले दिनों में कौन रामलीला करेगी. फिर धीरे-धीरे ये लुप्त होने लगी. इस लुप्त होती रामलीला को बचाने गांव की बेटियों ने पहल की. बेटियों की इस रुचि को देख गांव वाले भी उन्हें नहीं रोक पाए और रामलीला के पाठ को करने उनकी हौसला अफजाई करने लगे.



chhattisgarh news, balod news, ramleela , ramleela performance by girls, ramleela performance by girls in chhattisgarh, ramleela news, छत्तीसगढ़ न्यूज, बालोद न्यूज, रामलीला, छत्तीसगढ़ में रामलीला, लड़कियां करती है रामलीला, लड़कियों देती है रामलीला में प्रस्तुति, लड़कियां कर रही रामलीला, रामलीला की कहानी
दूर दराज से लोग भी इनकी रामलीला को देखने आते हैं. (Demo pic)

फिर बेटियों ने ही रामलीला की कमान संभाली और पिछले पांच सालों से अलग-अलग किरदारों में रामायण का मंचन कर रहे हैं. इन कलाकारों की मानें तो रामलीला के पाठ को लेकर शुरू में इन्हें भी कई दिक्कतें आई. लेकिन, जब ठान ही लिया था कि रामलीला को आगे बढ़ाना है फिर इन्होंने पलटकर नहीं देखा. धीरे-धीरे ये कलाकार अपने किरदारों में पारंगत होते चले गए. अब ये लड़कियां खुद रामायण के सारे किरदार निभा लेती हैं. जिले की कलेक्टर रानू साहू भी बेटियों की इस कला को महिला सशक्तिकरण का एक बड़ा उदाहरण मानती हैं.



ये भी पढ़ें: 

गिरफ्तारी के एक महीने बाद अमित जोगी को मिली हाईकोर्ट से जमानत

कांग्रेस नेता पीएल पुनिया का फोन उठाकर ट्रेन से कूदा बदमाश, PMO में हुई शिकायत 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading