• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • विधानसभा चुनाव: बालोद में ग्रामीणों ने इसलिए दी चुनाव बहिष्कार की चेतावनी

विधानसभा चुनाव: बालोद में ग्रामीणों ने इसलिए दी चुनाव बहिष्कार की चेतावनी

गांव में मूलभूत समस्याओं को दूर नहीं किए जाने के विरोध में ग्रामीण इस विधानसभा चुनाव में मतदान बहिष्कार की चेतावनी दे रहे हैं.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में आचार संहिता लगते ही निर्वाचन आयोग चुनावी तैयारी में जुट गया है. आयोग लोगों से इस चुनाव में अपने मताधिकार का उपयोग करने लगातार जनजागरुकता अभियान भी चल रहा है. वहीं बालोद जिले के कुछ ऐसे गांव भी हैं, जहां के लोगों द्वारा अपने गांव की मूलभूत समस्याओं को लेकर काफी लंबे समय से मांग की जा रही है, लेकिन उनकी मांगों पर आज तक अमल नहीं किया गया.

गांव में मूलभूत समस्याओं को दूर नहीं किए जाने के विरोध में ग्रामीण इस विधानसभा चुनाव में मतदान बहिष्कार की चेतावनी दे रहे हैं. बालोद जिले के गुंडरदेही विधानसभा के सिकोसा पंचायत जहां पर लंबे समय से 30 बिस्तर अस्पताल की मांग को लेकर सैकड़ो ग्रामीण 23 किलोमीटर पैदल यात्रा कर कलेक्टर को ज्ञापन सौंप चुनाव के पहले मांगो पर अमल करने की मांग कर चुके हैं, लेकिन आज तक उनकी मांग अधूरी है. वहीं संजारी बालोद विधानसभा के बोरी गांव से गुजरने वाली सेमरिया नाले पर नये पूल की मांग की जा रही है.

ग्रामीणों का कहना है कि नाले पर करीब 50 साल पहले एक पूल बनया गया था, जिसपर उस क्षेत्र के करीब 15 गांव के लोग मुख्यालय आवाजाही करते हैं, लेकिन हर साल बारिश के दौरान इन क्षेत्रों के करीब 15 गांवों के लोगो 10-15 दिनों से मुख्यधारा से अलग रहना पड़त है. क्योंकि बारिश में पूल पर आवाजाही रोक दी जाती है. इसलिए यहां ऊंचे पुल के निर्माण का मांग भी काफी लंबे अर्से से की जा रही है, लेकिन आज तक इनकी मांग अधूरी है.

यह भी पढ़ें: विधानसभा चुनाव: दुर्ग कलेक्टर के इस आदेश को पूरे प्रदेश में लागू करने की मांग

इसी तरह जिले आदिवासी आरक्षित विधानसभा डौंडी लोहारा के डौण्डी ब्लाक मुख्यालय सीमावर्ती ग्राम पंचायत आमाडुला और मथेना सहित लगभग प्रभावित 12 गांव के किसान अपने गांव आमाडुला स्थित आमाबाहरा बांध, जो कि पूर्ण हो चुका है परंतु इस बांध के पानी का उपयोग लगभग 12 गांव के किसानों को अपने खेतों में सिंचाई के लिए नहर नाली का निर्माण आज पर्यन्त तक नहीं कराया गया, जिसकी मांग काफी लंबे समय से की जा रही है. ऐसे करीब दर्जन भर से अधिक गांव हैं, जहां के लोग अपनी मांग पूरी नहीं होने से इस विधानसभा चुनाव में चुनाव बहिष्कार की चेतावनी दे चुके हैं.

यह भी पढ़ें: सर्वे: छत्तीसगढ़-राजस्थान और मध्य प्रदेश में BJP को करारा झटका, कांग्रेस की हो सकती है वापसी 

हालांकि बालोद कलेक्टर किरण कौशल का कहना है कि 100 फीसदी मतदान के लिए लोगों को प्रशासन द्वारा हर स्तर पर जागरूक किया जा रहा है. लोगों से अपने मताधिकार का उपयोग कर अपने निर्णय को बताने की अपील की जा रही है. लोगों से चुनाव का बहिष्कार न करने की बात क​ही जा रहा है.

यह भी पढ़ें: राजनांदगांव का चुनाव दूसरे चरण में कराने के लिए कांग्रेस ने EC को लिखा पत्र

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज