लाइव टीवी

नगरीय निकाय चुनाव: बालोद में बागी बिगाड़ेंगे BJP-कांग्रेस का समीकरण!

Santosh Kumar Sahu | News18 Chhattisgarh
Updated: December 8, 2019, 12:22 PM IST
नगरीय निकाय चुनाव: बालोद में बागी बिगाड़ेंगे BJP-कांग्रेस का समीकरण!
नगरीय निकाय चुनाव में बागी बीजेपी और कांग्रेस के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं. (प्रतीकात्मक चित्र)

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बालोद (Balod) जिले के 8 नगरीय निकायों में 137 वार्डों के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने का काम पूरा हो चूका है.

  • Share this:
बालोद. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बालोद (Balod) जिले के 8 नगरीय निकायों में 137 वार्डों के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने का काम पूरा हो चूका है. बीजेपी-कांग्रेस (BJP-Congress) के आलावा अन्य राजनितिक दलों ने अपने अपने उम्मीदवारों के फ़ार्म जमा करा दिए हैं. नामांकन प्रक्रिया के दौरान बीजेपी-कांग्रेस के कई ऐसे वर्तमान पार्षद भी हैं, जिन्हें पार्टी से टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर अब ये लोग अपने ही पार्टी से बागी हो गए हैं. इनमें से कई ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल कर दिया है.

नगरीय निकाय चुनाव (Urban civic elections) में बागी बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) के समीकरण बिगाड़ सकते हैं. हालांकि बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही दलों के जिलाध्यक्ष ने बागियों को नाम वापसी की अंतिम तारीख तक मना लेने की उम्मीद जता रहे हैं. लेकिन बगावत में उतर चुके पार्षद और नेता अपनी जिद में अड़े हैं और पार्टी को सबक सिखाने की बात कहते दिख रहे हैं. कांग्रेस के जिला अध्यक्ष कृष्णा दुबे का कहना है कि बागियों को मनाने की कोशिश की जा रही है. समय रहते सफलता मिल जाएगी. बीजेपी के जिला अध्यक्ष कृष्णकांत पवार का कहना है कि सभी बागियों से बातचीत की जा रही है. उन्हें मना लिया जाएगा.

पार्षदों के बागी सुर
बालोद नगर पालिका चुनाव (Balod Municipality Election) में कई ऐसे चेहरे हैं, जो अभी वर्तमान में पार्षद के अलावा नगर पालिका में नेता प्रतिपक्ष जैसे पद पर भी हैं, लेकिन पार्टी से टिकट वितरण में अनदेखी के चलते अब ये लोग बगावती सुर अपनाते हुए अपने ही पार्टी के खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल कर चुके है. कांग्रेस से बागी भोलू महराज का कहना है कि पार्टी ने उन्हें अनदेखा किया है, जिसका नुकसान चुनाव में कांग्रेस को होगा. वहीं बीजेपी के बागी श्रवण श्रीवास्तव का कहना है कि पालिका में नेता प्रतिपक्ष रहते हुए उन्होंने गंभीरता से मुद्दों को उठाया. वार्ड में विकास कार्य भी करवाए, लेकिन पार्टी ने उनकी अनदेखी की है. इसलिए निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं.

ये भी पढ़ें:
CM भूपेश बघेल से भीड़ में कांग्रेस नेत्री ने पूछा- 'मेरी टिकट क्यों कटी?' 

रायपुर के दंपति का समुद्री जहाज से अपहरण, राज्य सरकार ने विदेश मंत्रालय से किया संपर्क  

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बालोद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 8, 2019, 12:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर