लाइव टीवी

बेटे को नहीं दी बोनस की राशि, सदमे में मरा किसान

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 11, 2017, 4:39 PM IST
बेटे को नहीं दी बोनस की राशि, सदमे में मरा किसान
मृतक किसान

बलौदाबाजार में बोनस की राशि नहीं मिलने से परेशान एक बीमार किसान की सदमे से मौत हो गई. किसान ने बेटे को बोनस लेने बैंक भेजा था, लेकिन अधिकारियों ने लौटा दिया.

  • Share this:
बलौदाबाजार में बोनस की राशि नहीं मिलने से परेशान एक बीमार किसान की सदमे से मौत हो गई. किसान ने अपने बेटे को बोनस की राशि लेने बैंक भेजा था, लेकिन अधिकारियों ने उसे लौटा दिया. इसके बाद किसान की मौत हो गई.

मिली जानकारी के मुताबिक भर्राकोना का किसान खोलवहरा यादव (60साल) बीमार था. किसान का भाटापारा व रायपुर मे इलाज चल रहा था. किसान का बेटा मोहित यादव तथा गांव के सरपंच कुबेर किसान से निकासी फॉर्म में हस्ताक्षर कराकर बीते मंगलवार को जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक सिमगा गए. जहां पिता के बीमार होने व हस्ताक्षर युक्त कागज एवं पासबुक लाने की बात किसान के पुत्र व सरपंच ने बैंक अधिकारी को कहा. आरोप है कि पहले बैंक अधिकारियों ने दिनभर किसान के बेटे को बैंक में ही बिठाए रखा. शाम को बैंक अधिकारी से पूछने पर अधिकारियों ने बीमार किसान खोलबहरा को खुद बैंक आने को कहा तथा बीमार हो तो खाट पर लाने की बात कही.

बैंक से धान के बोनस का पैसा नहीं मिलने पर किसान खोलबहरा ने सदमे मे दम तोड़ दिया. मौत के बाद गांव व घर मे मातम छाया है. क्योंकि गांव के पूरे मवेशियो को चरायी का काम मृतक खोलबहरा ही करता था. मृतक किसान के पुत्र व सरपंच कुबेर ने किसान को उचित मुआवजा देने की मांग की है.

गौरतलब है कि बैंक का नियम है कि अगर कोई विकलांग व बीमार है तो बैंक के अधिकारियों द्वारा घर जाकर पैसा दिया जा सकता है. जानकारों ने बताया कि यह बैंक सेवा की श्रेणी मे आता है, जिसका पालन बैंक ने नही किया.

पूरे मामले में बलौदाबाजार के कलेक्टर राजेश सिंह राणा ने जांच के निर्देश दे दिए हैं. इधर ग्रामीणों ने मामले में जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग की है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बलौदा बाजार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2017, 4:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर