लाइव टीवी

असंगठित कामगार मजदूर कांग्रेस पार्टी ने बंधक बने कई ग्रामीणों को छुड़ाया

Om Jaiswal | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: January 26, 2018, 6:22 PM IST
असंगठित कामगार मजदूर कांग्रेस पार्टी ने बंधक बने कई ग्रामीणों को छुड़ाया
छूटकर आए जुड़ा और खमरिया गांव के ग्रामीण

छत्तीसगढ़ के बलौदा बाजार जिले में बंधक बनाए गए जुड़ा और खमरिया गांव के लोगों को नागपुर के असंगठित कामगार मजदूर कांग्रेस पार्टी के कार्यकता सिध्दकी द्वारा छुड़ाकर बलौदा बाजार वापस ले आया गया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के बलौदा बाजार जिले में बंधक बनाए गए जुड़ा और खमरिया गांव के लोगों को नागपुर के असंगठित कामगार मजदूर कांग्रेस पार्टी के कार्यकता सिध्दकी द्वारा छुड़ाकर बलौदा बाजार वापस ले आया गया है. आपको बता दें कि नागपुर के इंदर पेपर कंपनी के पास ईंट भट्टा के मालिक ने बीते 4 महीने से बंदूक की नोक पर गांव को लोगों को बंधक बनाकर रखा हुआ था.

वहीं ईंट भट्टा मालिक की कैद से छूटकर आए मजदूरों का कहना है कि उनके पास गांव में न तो खेती बाड़ी है और ना ही रोजगार गांरटी का उन्हें कोई काम मिलता है. ऐसे में रोजगार की तलाश करते हुए वे दलाल के माध्यम से नागपुर में जाकर फंस गए थे.

वहीं मजदूर महिलाओं का कहना है कि ठेकेदार उनसे जानवरों की तरह बर्ताव करता था. इतना ही नहीं ठेकेदार वहां काम करने वाली महिलाओं और लड़कियों पर बुरी नजर रखता था. यहां तक कि उसकी बात न मानने पर जान से मरवा देने की धमकी भी देता था.

अब वे घर लौटकर बेहद खुश हैं. बंधक बनाए गए लोगों के नाम राजेश बंजारे, हीराबाई, पुनीत, सुरेखा, मेघाबाई, तेरस (19 वर्ष), पिंकी(16 वर्ष) आदि हैं. महिला मजदूर हीराबाई का कहना है कि उसके पति राजेश के पास छत्तीसगढ़ के अंसगठित कामगार मजदूर कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता का नंबर था जिस पर फोन कर उन्होंने मदद मांगी थी. इसके बाद वे नागपुर के असंगठित कामगार मजदूर कांग्रेस पार्टी के कार्यकता सिध्दकी मदद से सकुशल अपने परिवार के साथ अपने घर लौट पाए.

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बलौदा बाजार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 26, 2018, 6:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर