बलरामपुर: बंधक 14 मजदूर कराए गए रिहा, सोशल मीडिया के जरिए लगाई थी मदद की गुहार

युवकों का आरोप है कि उनका मोबाइल और अधार कार्ड भी छीन लिया गया.

Upesh sinha | News18 Chhattisgarh
Updated: July 18, 2019, 2:17 PM IST
बलरामपुर: बंधक 14 मजदूर कराए गए रिहा, सोशल मीडिया के जरिए लगाई थी मदद की गुहार
युवकों का आरोप है कि उनका मोबाइल और अधार कार्ड भी छीन लिया गया.
Upesh sinha | News18 Chhattisgarh
Updated: July 18, 2019, 2:17 PM IST
चेन्नई की एक कंपनी में बलरामपुर जिले के बंधक बने 14 युवकों को पुलिस और प्रशासन की टीम ने रिहा करवा लिया है. जानकारी के मुताबिक 12 युवकों को बलरामपुर वापस लेकर आया गया है जिसमे से चार नाबालिग भी शामिल हैं. दरअसल पिछले कुछ दिन पहले सोशल मीडिया के जरिए बंधक बनाए गए युवक में से एक ने वीडियो भेजा था. इसी वीडियो सामने आने के बाद परिजनों ने पुलिस और प्रशासन से मदद की गुहार लगाई थी. बंधक बनाए गए युवकों का कहना है कि कंपनी के लोगों ने उन्हे लालच देकर बुलाया था. चेन्नई में नके साथ मारपीट की गई. युवकों का आरोप है कि उनका मोबाइल और अधार कार्ड भी छीन लिया गया.

यै है पूरा मामला

दरअसल कुछ दिन पहले ही जिले की पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को जानकारी लगी थी कि बलरामपुर के कुछ युवक काम करने के लिए चेन्नई गए हुए थे. यहां पर एक कम्पनी ने उन्हे बंधक बनाकर रखा ह. वहीं परिजनों ने भी अधिकारियों से अपने बच्चों को छुड़ाने की गुहार लगाई थी.

वीडियो सामने आने के बाद परिजनों ने पुलिस से मदद की गुहार लगाई है.


जानकारी देते हुए एसपी टीआर कोशिमा ने बताया कि परिजों की शिकायत के बाद जिला प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम चेन्नई भेजी गई.  फिर यहां से 14 बंधक युवकों को रिहा कराया गया. पुलिस के मुताबिक बंधक बनाए 2 युवकों का सामान नहीं मिला था. इसलिए टीम वहां पर युवकों के साथ सामान खोजकर वापस लेकर आएगी. वही बाकी के 12 युवकों को बाल कल्याण समिति को सौंपा गया है जहां पर युवकों का बयान लिया गया.

ये भी पढ़ें:

नेगेटिव पब्लिसिटी का खामियाजा, बीजेपी की बनाई सभी समितियों को भंग करेगी कांग्रेस 
Loading...

गिरफ्तारी से बचने निलंबित डीजी मुकेश गुप्ता का नया पैतरा, लेटर में EOW को लिखी ये बात 

 

 

 
First published: July 18, 2019, 2:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...