108 और 102 के एंबुलेंस कर्मी हड़ताल पर, डॉक्टरों ने ली जिम्मेदारी
Balrampur-Ramanujganj News in Hindi

108 और 102 के एंबुलेंस कर्मी हड़ताल पर, डॉक्टरों ने ली जिम्मेदारी
108 और 102 के एंबुलेंस कर्मी हड़ताल पर, डॉक्टरों ने ली जिम्मेदारी

108 और 102 एंबुलेंस सेवा के कर्मचारियों की हड़ताल का असर इतना ज्यादा है कि चिकित्सक ही महतारी एक्सप्रेस की सेवा देने पर मजबूर हो गए हैं.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले में 108 और 102 एंबुलेंस सेवा के कर्मचारियों की हड़ताल का असर इतना ज्यादा है कि चिकित्सक ही महतारी एक्सप्रेस की सेवा देने पर मजबूर हो गए हैं. दरअसल, मामला सामरी पाठ के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का है, जहां पर महतारी एक्सप्रेस की सुविधा दी गई है. बता दें कि बीते 16 जुलाई से महतारी एक्सप्रेस के कर्मचारी प्रदेश व्यापी हड़ताल पर चले गए हैं. वहीं चिकित्सक को वाहन की चाबी और मोबाइल सौंप दी है.

इस दौरान जब वहां पदस्थ चिकित्सक एस. के. शुक्ला के पास फोन की घंटी बजने लगी, तो उन्होंने मानवता के नाते अपने एमपीडब्ल्यू कर्मचारी के साथ सामरी पाठ जैसे नक्सल प्रभावित क्षेत्र में महतारी एक्सप्रेस की सेवा देना शुरू की है. इसी क्रम में बीते 16 जुलाई को सुनैना नामक एक गर्भवती महिला के गांव जाकर उन्होंने उस महिला को अपने अस्पताल में भर्ती कराया.

इस दौरान महिला का सफल डिलेवरी भी करवाया गया. वहीं अन्य अस्पताल में भर्ती महिलाओं को भी उन्होंने सेवा दी. बात अगर किसी की जान बचाने के लिए कही जाए, तो यहां डाइवर नहीं होने की वजह से चिकित्सक रिस्क लेने पर मजबूर हो गए हैं. 102 और 108 एंबुलेंस सेवा के कर्मचारियों की हड़ताल के कारण स्वास्थ्य विभाग भी कहीं न कहीं परेशान जरूर है.



डॉक्टर एस. के. शुक्ला कहना है कि 102 और 108 के एंबुलेंसकर्मी एंबुलेंस की चाबी और मोबाइल उन्हें सौंपकर हड़ताल पर चले गए हैं. इस दौरान 102 नंबर बार बार कॉल आ रहा था, जब कॉल उठाया तो उन्हीं के गांव की रहने वाली एक गर्भवती महिला का था. इसके बाद वे तत्काल उस गांव गए और महिला को अस्पताल में भर्ती कराया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading