लाइव टीवी

'साहब! हमें इस गांव से हटाकर कहीं और बसा दो'
Balrampur-Ramanujganj News in Hindi

Upesh sinha | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: February 5, 2018, 6:16 PM IST
'साहब! हमें इस गांव से हटाकर कहीं और बसा दो'
कलेक्‍टर से विस्‍थापन की गुहार लगाने पहुंचे ग्रामीण.

छत्‍तीसगढ़ में बलरामपुर जिले के सामरी थाना क्षेत्र के नक्‍सल प्रभावित गांव चुनचुना पुंदाग के परेशान ग्रामीणों ने कलेक्‍टर से मांग की है कि उन्‍हें इस गांव से निकालकर कहीं और बसा दिया जाए.

  • Share this:
छत्‍तीसगढ़ में बलरामपुर जिले के सामरी थाना क्षेत्र के ग्राम चुनचुना पुंदाग से लगभग 40-50 की संख्या में ग्रामीण विस्थापन की मांग को लेकर जिला मुख्यालय पहुंचे. उन्‍होंने सोमवार को कलेक्टर से मुलाकात कर किसी और गांव में बसाने की मांग की.

नक्सलियों के साये में जीवन जीने को मजबूर ग्रामीण विस्थापन की मांग कर रहे हैं, क्योंकि गांव में न तो उन्हें शासन की योजनाओं का लाभ मिल रहा है और न ही कोई सुविधा. सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) का चावल भी उन्हें तब मिलता है, जब झारखंड से गाड़ी पहुंचती है. पिछले दो माह के भीतर ग्रामीण दूसरी बार विस्थापन की मांग को लेकर मुख्यालय पहुंचे थे. ग्रामीणों की बात सुनने के बाद कलेक्टर ने उन्हें आश्‍वस्‍त किया है.

जिले के सबसे सूदूर अंचल में बसा ग्राम पुंदाग झारखंड की सीमा से लगा हुआ है और नक्सलियों का गढ़ कहे जाने वाले बूढ़ा पहाड़ से काफी नजदीक है. आज भी नक्सली रोज यहां आते हैं और न सिर्फ ग्रामीणों को धमकाते हैं बल्कि उनका राशन भी उठाकर ले जाते हैं. ग्रामीणों ने अपना दर्द बताते हुए कहा कि मजबूरी में उन्‍हें नक्सलियों का सहयोग करना पड़ता है अन्‍यथा हमेशा जान का खतरा बना रहता है. इन्हीं सबसे निजात पाने के लिए वे कलेक्टर से विस्थापन की मांग कर रहे हैं.



कलेक्टर अवनीश कुमार शरण खुद भी मान रहे हैं कि वो इलाका नक्सलियों का गढ़ है और जॉइंट ऑपरेशन के दौरान ग्रामीणों को परेशानी होती है. कलेक्टर ने कहा कि उस क्षेत्र में विकास के कार्य किए जा रहे हैं और जब वहां काम पूरा हो जाएगा तो क्षेत्र में ग्रामीणों को राहत मिलेगी. ग्रामीणों को समझाइश देने के बाद उन्हें वापस भेज दिया गया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बलरामपुर-रामानुजगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2018, 6:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading