Assembly Banner 2021

हाईटेंशन तार की चपेट में आई 4 साल की बच्ची, झुलसने से मौके पर मौत

फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

वहीं घटना की जानकारी मिलतेही बस्तर थाना पुलिस मौके पर पहुंची. फिलहाल, मामले की जांच पुलिस (Police) कर रही है.

  • Share this:
जगदलपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जगदलपुर (Jagdalpur) जिले में सोमवार को एक दर्दनाक हादसा हो गया. हाईटेंशन तार (High tension Line) की चपेट में आने से एक चार साल की बच्ची की दर्दनाक मौत हो गई. बताया जा रहा है कि बच्ची अपने दादा के साथ घर से बकरी चराने के लिए निकली थी. इसी दौरान तार बच्ची पर टूट कर गिर गई. झुलसने से बच्ची की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई. वहीं घटना के बाद ग्रामीण काफी आक्रोशित हो गए. लोगों ने बिजली विभाग (Electricity Department) पर लापरवाही का आरोप भी लगाया. ग्रामीणों का कहना है कि ठेकेदार ने ठीक तरीके से तार को नहीं बांधा. इस लापरवाही के कारण ये बड़ा हादसा हो गया. वहीं घटना की जानकारी मिलतेही बस्तर थाना पुलिस मौके पर पहुंची. फिलहाल, मामले की जांच पुलिस (Police) कर रही है.



ऐसे हुआ हादसा

मिली जानकारी के मुताबिक बस्तर ब्लॉक के टिकरा लोहगा इलाके में हाईटेंशन तार की चपेट में एक बच्ची आ गई. दरअसल, जगदलपुर जिले के बस्तर के ग्राम टिकरालोहंगा में हुए एक दर्दनाक हादसे में चार साल की बच्ची की मौत हो गई. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई. फिलहाल पुलिस ने बच्ची के शव को अपने कब्जे में ले लिया है.



जानकारी के मुताबिक, ग्राम के बिरिंगपारा इलाके में चार साल की बच्ची अपने दादा के साथ बकरी चराने गई हुई थी. इस दौरान इलाके में बिजली के हाईटेंशन तार का काम चल रहा था. बच्ची के परिजनों का आरोप है कि ठेकेदार के मजदूरों ने हाईटेंशन लाईन को अचानक चालू कर दिया गया. ग्रामीणों का आरोप है कि मजदूरों ने तार को ठीक से नहीं बांधा था. इस वजह से तेज़ बिजली से दौड़ती तार बच्ची पर टूट कर गिर गई और झुलसने से उसकी मौत हो गई. आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिस के पहुंचने से पहले मजदूरों के साथ मारपीट भी की. इसके बाद मजदूरों को पुलिस के हवाले कर दिया गया है. फिलहाल बस्तर थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है.

ये भी पढ़ें: 
कृषि मेले में आकर्षण का केंद्र बने करण और बादशाह, 'खास खूबी' है मुर्रा नस्ल के इन सांडों में 



छत्तीसगढ़: 21वीं सदी में भी नहीं बदली सोच, इस वजह से झोपड़ी में रहने मजबूर हैं महिलाएं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज