राजनीतिक दलों की बढ़ी चिंता...कैसे होगा नक्सल इलाके में चुनाव प्रचार

चुनाव के समय नक्सल प्रभावित इलाकों में पार्टी के लिए प्रचार प्रसार करने वाले कार्यकर्ता माओवादियों के निशाने पर होते है.

Vinod Kushwaha | News18 Chhattisgarh
Updated: September 11, 2018, 6:15 PM IST
राजनीतिक दलों की बढ़ी चिंता...कैसे होगा नक्सल इलाके में चुनाव प्रचार
सांकेतिक तस्वीर
Vinod Kushwaha | News18 Chhattisgarh
Updated: September 11, 2018, 6:15 PM IST
जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव का समय नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे राजनीतिक दलों की चिंता इस बात को लेकर बढ़ रही है कि नक्सल प्रभावित इलाकों में चुनाव प्रचार कैसे होगा. चुनाव के समय नक्सल प्रभावित इलाकों में पार्टी के लिए प्रचार प्रसार करने वाले कार्यकर्ता माओवादियों के निशाने पर होते है. इस बार जैसी सख्ती बीजेपी नक्सलियों के खिलाफ दिखा रही हैँ उसके चलते पार्टी के कार्यकर्ता नक्सलियों के टारगेट में आ रहे है.

राजनीतिक दलों चाहे कांग्रेस हो या फिर बीजेपी सभी के लिए लाल आंतक का डर काफी ज्यादा दहशत पैदा कर रहा है. कुछ समय पहले नक्सलियों ने बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया है. ऐसे में आने वाले समय में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टी के लिए नक्सल इलाकों में चुनाव प्रचार करना दिक्कते पैदा कर सकता है. इस बात से चितिंत राजनैतिक दल कोई रास्ता निकालने की भी कोशिश में है.
कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा कि साल 2013 के चुनाव के दौरान जब कांग्रेस के दिग्गज नेता चुनाव प्रचार में थे तब उस दौरान जगदलपुर जिले के दरभा में नक्सलियों ने उन्हे निशाना बनाया था. इस हमले में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के दिग्ग्ज नेताओं की मौत हो गई थी. इस बार के चुनाव में भी आशंका है कि नक्सली चुनाव प्रचार के दौरान कार्यकर्ताओं पर हमला कर सकते है. इन बातों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस ने नक्सल प्रभावित इलाकों में जाने से पहले सुरक्षा से जुड़े आला अधिकारियों को लिखित और मौखिक दौरे की सूचना देनी की योजना बना रही है ताकि कार्यकर्ताओं को सुरक्षा दी जा सके.

वहीं बीजेपी भी नक्सल इलाके में चुनाव प्रचार को लेकर चिंतित दिखाई दे रही है. बीजेपी के संगठन महामंत्री डॉ. सुभाउ कश्यप का कहना है कि नक्सल इलाकों में कार्यकर्ता को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है. वहां खतरा रहा है इसपर कोई दो राय नहीं है. पार्टी अपने कार्यकर्ताओं को लेकर चिंतित है. उनकी सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठाने की कवायद की जाएगी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर