Assembly Banner 2021

जगदलपुर के निर्माणाधीन स्टील प्लांट में लगी आग, मशीन टेस्टिंग के दौरान हुआ हादसा

नगरनार इलाके में ये हादसा हुआ है.

नगरनार इलाके में ये हादसा हुआ है.

बताया जा रहा है कि प्लांट के अंदर जहां पर आग लगी वहां बेल्डिग का काम चल रहा था. उसकी चिनगारी से ये हादसा हो सकता है. फिलहाल, प्रबंधन की ओर से किसी तरह की कोई जानकारी नहीं दी गई है.

  • Share this:
जगदलपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जगदलपुर (Jagdalpur) में मंगलवार को एक हादसा हो गया. शहर के नगरनार इलाके के निर्माणाधीन स्टील प्लांट (Steel Plant) के कन्वेयर बेल्ट सहित रॉ मटेरियल हैडंलिंग सिस्टम में आग (Fire) लग गई. आग लगने की खबर मिलते ही पूरे प्लांट के अंदर अफता-तफरी का माहौल बन गया. काफी मशक्कत के बाद प्लांट के अंदर मौजूद फायर बिग्रेड (Fire Brigade) की मदद से आग पर काबू पाया जा सका. आरोप है कि प्लांट के अंदर लगी आग को प्रबंधन दबाने की कोशिश करता रहा. कहा जा रहा है कि प्लांट के अंदर मौजूद किसी भी मजदूर को इस हादसे की कोई भनक तक नहीं होने दी गई. बताया जा रहा है कि प्लांट के अंदर जहां पर आग लगी वहां बेल्डिग का काम चल रहा था. उसकी चिनगारी से ये हादसा हो सकता है. फिलहाल, प्रबंधन की ओर से किसी तरह की कोई जानकारी नहीं दी गई है.



ऐसे हुआ हादसा

सूत्रों के मुताबिक हेडंलिंग मशीन की टेस्टिग के दौरान कनवेयर ब्लेट में घषर्ण होने की वजह से आग ने इतना भयावह रूप ले लिया. लेकिन इस घटना से एक बात साफ हो गया है कि प्लांट के अंदर चल रहे निर्माण कार्य की गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा गया है. गौरतलब हो कि हादसा तब हुआ जब प्लांट निर्माणाधीन है. अब इस घटना के बाद आशंका जताई जा रही है कि प्लांट के शुरू होने के बाद और भी बड़ा हादसा हो सकता है.



सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हेडलिंग कन्वेयर ब्लेट का काम भेल कम्पनी के माध्यम से किया जा रहा है. जिस प्रोजेक्ट में आग लगी है उस प्रोजेक्ट का काम भेल कम्पनी को साल 2011 में तीस माह के भीतर पूरा करने था. लेकिन नौ साल बीत जाने के बाद भी कम्पनी अब तक अपना काम पूरा नहीं कर सकी है. इस देरी के चलते कम्पनी को बीते जून माह में टर्मिनेट भी किया गया था. लेकिन अगस्त में कम्पनी को काम दुबारा शुरू करने के लिए कहा गया.
हादसे में किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है.




प्रबंधन पर आरोप

प्लांट प्रबंधन पर आरोप है कि सुरक्षा मानकों का ध्यान नहीं रखा गया इस वजह से ये हादसा हो गया. जानकारी के मुताबिक इस्पात मंत्रालय द्वारा जून-जुलाई में कमीशनिंग का काम शुरू किए जाने का अल्टीमेटम दिया जा चुका है. ऐसे में काम को जल्द पूरा करने के चलते इस तरह की दुघर्टनाएं हो रही हैं. हम आपकों बता दें कि प्लांट में आग लगने की ये चौथी घटना है.



ये भी पढ़ें: 

लाखों में किया कार का सौदा, पैसे देने फोन पर भेजा Link, फिर हो गया 'कमाल' 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज