VIDEO: छत्तीसगढ़ में कर्ज से मुक्ति तो मिली पर किसानों को जेल भी जाना पड़ा

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद किसानों को कर्ज से मुक्ति तो मिली, लेकिन कर्ज के चलते कुछ किसानों को जेल की सजा भी मिल गई है.

Vinod Kushwaha | News18 Chhattisgarh
Updated: May 14, 2019, 1:03 PM IST
Vinod Kushwaha | News18 Chhattisgarh
Updated: May 14, 2019, 1:03 PM IST
छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद किसानों को कर्ज से मुक्ति तो मिली, लेकिन कर्ज के चलते कुछ किसानों को जेल की सजा भी मिल गई है. बस्तर ब्लॉक के दो किसानों के परिवार ने जगदलपुर कलेक्ट्रेट पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई है. बताया जा रहा है कि पीड़ित किसानों को एजेंटों द्वारा खेत में ड्रिप कराने के नाम से बैंक से लोन दिलवा दिया गया, पर अशिक्षित किसानों को यह नहीं मालूम कि उन्हें फंसाया जा रहा है. 40 हजार हाथ में देकर उन्हें 4 लाख रुपये का कर्जदार बनाया जा रहा है. वहीं एक किसान को तो मात्र 60 हजार देकर 10 लाख का कर्जदार बना दिया.

बैंक से लगातार किसानों को लोन अदा करने के लिये नोटिस दिया गया लेकिन किसानों को जब पता चला कि उनका कर्ज लाखों में हैं तो उनके होश उड़ गये. उसके बाद बैंक द्वारा चेक बाउंस को लेकर उन्हें पेशी में बुलाया गया और उन्हें जेल भेज दिया गया. इस बात की जानकारी लगने के बाद पीड़ित किसानों के परिवार ने बस्तर कलेक्टर से गुहार लगाई है.



पीड़ित किसानों के परिजनों ने मीडिया से बातचीत करते हुये बताया कि बस्तर ब्लॉक में एजेंटों ने खेती के लिये ड्रिप दिलवाने के नाम से उन्हें बैंक से लोन दिलाया था और उन्हें बैंक के दस्तावेजों पर अंगूठा लगाकर रकम हासिल कर ली. इस बारे में लगातार किसान बैंक से यह पूछते रहे कि उन्हें कितना लोन दिया गया है, लेकिन बैंक की ओर से उन्हें कोई जवाब नहीं दिया गया, बल्कि इसके बाद लोनधारी किसानों को चेक बाउंस के नाम पर जेल भेज दिया गया.

वहीं किसान नेता व पीड़ित किसानों के परिवारों ने बैंक और दलाल की मिलीभगत का आरोप लगाया है और प्रदेश की सरकार से कर्जमाफी की गुहार लगाई है.

यह भी पढ़ें:  जेल में बंद आदिवासियों की रिहाई को लेकर छत्तीसगढ़ में राजनीति शुरू 

बस्तर के जंगलों में एक दुर्लभ फूल दिखने से ग्रामीणों में भय और अंधविश्वास का माहौल
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...