Home /News /chhattisgarh /

हर तरफ हो रही डॉक्‍टरों के अड़ियल रवैये और मेकॉज की मनमानी की निंदा

हर तरफ हो रही डॉक्‍टरों के अड़ियल रवैये और मेकॉज की मनमानी की निंदा

File Photo

File Photo

पांच दिन पहले छत्‍तीसगढ़ में जगदलपुर के मेडिकल कॉलेज सह महारानी अस्पताल (मेकॉज) में मीडियाकर्मियों और मेकॉज के डॉक्टरों के बीच हुए विवाद का मामला थमने के बजाय लगातार गर्माता जा रहा है.

पांच दिन पहले छत्‍तीसगढ़ में जगदलपुर के मेडिकल कॉलेज सह महारानी अस्पताल (मेकॉज) में मीडियाकर्मियों और मेकॉज के डॉक्टरों के बीच हुए विवाद का मामला थमने के बजाय लगातार गर्माता जा रहा है. जिला और पुलिस प्रशासन इस विवाद को खत्म करने में नाकाम ही नजर आ रहे हैं. कई राजनीतिक दलों ने डॉक्‍टरों के अड़ियल रवैये और मेकॉज प्रबंधन की मनमानी निंदा करते हुए इनके खिलाफ प्रदर्शन की चेतावनी दी है.

एसपी के बुलावे पर समझौते के लिए नहीं पहुंचे डॉक्‍टर


इस मामले में जहां दोनों पक्षों ने पुलिस और जिला कलेक्टर से मिलकर एक-दूसरे के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की थी. इस पर शुक्रवार को पुलिस कोऑर्डिनेशन सेंटर में पुलिस अधीक्षक आरएन दास ने दोनों पक्षों के प्रतिनिधियों को सुलह करने के लिए बुलाया था, जिसमें पत्रकारों का प्रतिनिधि मंडल वहां पहुंचा लेकिन डॉक्टरों की ओर से कोई भी प्रतिनिधित्व करने नहीं पहुंचा. यही वजह है कि सुलह का रास्ता भी नहीं निकल सका.

जिला प्रशासन के मना करने के बावजूद धरने पर बैठे


महारानी अस्पताल की चिकित्‍सा संघर्ष समिति के बैनर तले डॉक्‍टर मेकॉज ओपीडी के सामने धरना दे रहे हैं. जिला प्रशासन ने डॉक्टरों को धरना नहीं करने की ताकीद देते हुए कोई दूसरा रास्ता निकालने की सलाह दी थी, लेकिन धरने पर बैठे डॉक्टर अपने अड़ियल रवैये पर कायम हैं. पांच दिन का समय बीत चुका है. डॉक्टर अस्पताल परिसर में धरना दे रहे हैं और अस्पताल परिसर में मीडिया के प्रवेश पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी गई है, जिस वजह है अस्पताल की कोई भी खबर बाहर नहीं आ पा रही हैं.

मेकॉज प्रबंधन ने लगाया मीडियाकर्मियों के प्रवेश पर प्रतिबंध


पत्रकारों और डॉक्‍टरों के विवाद के बीच मेकॉज प्रबंधन भी मनमानी पर उतर आया है. उसने एक आदेश जारी कर मीडिया कर्मियों के अस्‍पताल और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पर ही प्रतिबंध लगा दिया है. इस आदेश की पत्रकारों सहित राजनीतिक दलों व अन्‍य संगठनों ने निंदा की है. उनका कहना है कि अपनी कमियों को सुधारने की बजाय लोकतंत्र के चौथे स्‍तंभ के प्रवेश पर ही रोक लगा देना कतई उचित नहीं है.

मुख्‍यमंत्री से करेंगे शिकायत


मुख्‍यमंत्री रमन सिंह 25 जनवरी को जगदलपुर आ रहे हैं. पत्रकार उनसे मिलकर मेकॉज प्रबंधन की मनमानी की शिकायत करेंगे. इस संबंध में प्रधानमंत्री को भी पत्र लिखकर अवगत कराया जाएगा. पत्रकारों का कहना है कि यदि मुख्‍यमंत्री ने उचित कार्रवाई नहीं की तो पत्रकार सभी शासकीय कार्यक्रमों और सूचनाओं के बहिष्‍कार का निर्णय लेने पर विचार करेंगे.

राजनीतिक दलों ने प्रदर्शन और आदेश को ठहराया अनुचित


इस मामले में अब राजनीतिक दल एक मंच के नीचे आकर इसका हल निकालने के लिए जुट गए हैं. कांग्रेस के प्रभारी जिलाध्यक्ष राजीव शर्मा ने इस मामले के लगातार तूल पकड़ने को लेकर राज्य सरकार को विफलता का दोषी ठहराया है, तो छत्तीसगढ़ जनता जोगी कांग्रेस के युवा विंग के महासचिव नवनीत चांद ने मीडिया के खिलाफ डॉक्टरों के प्रदर्शन को गलत बताते हुए जल्द ही इस मामले में राज्य सरकार और स्वास्थ्य मंत्री से पहल करने की मांग की है.

लाचार पिता की खबर दिखाने पर भड़के डॉक्टर


उधर आम आदमी पार्टी संभाग समन्वयक रोहित सिंह आर्य ने भी इस मामले में सरकार को दोषी ठहराया है. साथ की मेकॉज प्रबंधन की निंदा करते हुए कहा है कि मेकॉज में आए दिन अव्यवस्थाओं पर पर्दा डालने के लिए डॉक्टर बिना वजह का दबाव मीडिया पर बना रहे हैं, जो उचित नहीं है.

भाजपा को छोड़कर बाकी दलों ने एक स्वर में मेकॉज प्रबंधन द्वारा मीडिया के प्रवेश पर लगाई गई पाबंदी को गलत ठहराते हुए जल्द से जल्द इस समस्या का हल निकालने को कहा है अन्यथा राजनीतिक दल ही इस बारे में कठोर रणनीति बनाकर मेकॉज प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे.

Tags: Jagdalpur news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर