छत्तीसगढ़: कोरोना संक्रमण के डर से नक्सलियों की संगठन से हो रही छुट्टी
Bastar News in Hindi

छत्तीसगढ़: कोरोना संक्रमण के डर से नक्सलियों की संगठन से हो रही छुट्टी
(फाइल फोटो)

बस्तर क्षेत्र की पुलिस का दावा है कि कोरोना वायरस के भय से माओवादी बटालियन कमाण्डर हिड़मा ने महिला नक्सली सुमित्रा की संगठन से छुट्टी कर दी है.

  • Share this:
बस्तर. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र में पुलिस ने दावा किया है कि माओवादी कोरोना वायरस संक्रमण के भय से अपने संगठन के लोगों की छुट्टी कर रहे हैं. बस्तर क्षेत्र की पुलिस का दावा है कि कोरोना वायरस के भय से माओवादी बटालियन कमाण्डर हिड़मा ने महिला नक्सली सुमित्रा की संगठन से छुट्टी कर दी है. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बीजापुर जिले के मोदकपाल थाना क्षेत्र के पेद्दाकवाली गांव के जंगल में संदिग्ध परिस्थिति में एक महिला के मौजूद होने की जानकारी मिलने के बाद डीआरजी के दल को जंगल में भेजा गया था.

अधिकारियों ने बताया कि जंगल में संदिग्ध परिस्थिति में मिली महिला से पूछताछ की गई तब उसने अपना नाम सुमित्रा चेपा (32 वर्ष) बताया. महिला ने बताया कि वह वर्ष 2010 में माओवादी संगठन में भर्ती हुई थी तथा वर्तमान में बटालियन की कंपनी नंबर एक की प्लाटून नंबर तीन की सक्रिय सदस्य है.

ये भी पढ़ें: नम आंखों से शहीद गणेश कुंजाम को दी गई अंतिम विदाई, CM बघेल ने किया बड़ा एलान



महिला ने पुलिस को बताया कि संगठन में कार्य करने के दौरान उसे सर्दी, खांसी और बुखार की शिकायत हुई तब बटालियन के माओवादियों ने कोरोना वायरस संक्रमण होने की आशंका में और संक्रमण के भय से उसकी बटालियन से छुट्टी कर दी. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि लगातार 10 वर्ष से माओवादी संगठन में रहकर काम करने के बाद अचानक संगठन से छुट्टी किए जाने के बाद सुमित्रा चेपा अपने परिजनों के पास जाने के लिए पेद्दाकवाली जंगल में रुकी हुई थी.
अधिकारियों ने बताया कि इस दौरान सुमित्रा चेपा ने बताया कि संगठन में अन्य कई माओवादी सदस्यों को सर्दी, खांसी, बुखार और उल्टी-दस्त की शिकायत है जिससे बटालियन के माओवादी कोरोना संक्रमण के भय से घबरा गए हैं तथा कोरोना बीमारी को लेकर बटालियन में हड़कंप मचा हुआ है. यही कारण है कि बटालियन में माओवादियों को सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षण दिखने पर उन्हें संगठन से छुट्टी दे दी जा रही है.

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में मिला एक और गजराज का शव, 10 दिन में छह हाथियों ने तोड़ा दम

उन्होंने बताया कि हिरासत में ली गई महिला माओवादी सुमित्रा चेपा का अस्पताल में कोरोना संक्रमण संबंधित स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया है तथा उसे पृथक रखा गया है. पृथक-वास अवधि पूर्ण होने पर उससे विस्तृत पूछताछ की जाएगी तथा आगे की कार्रवाई की जाएगी.

अधिकारियों ने बताया कि बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुन्दरराज पी ने ग्रामीणों से अपील की है कि वे सुमित्रा चेपा जैसे कोरोना के भय से माओवादी संगठन छोड़कर वापस गांव आने वाले माओवादियों के बारे में संबंधित थाना, चौकी और शिविर में सूचना दें जिससे उनका स्वास्थ्य परीक्षण कराया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज