आॅपरेशन प्रहार ने बस्‍तर में तोड़ी माओवादियों की कमर
Bastar News in Hindi

आॅपरेशन प्रहार ने बस्‍तर में तोड़ी माओवादियों की कमर
Demo Pic

छत्तीसगढ के बस्तर में ये पहला मौका होगा जब साल 2017 में माओवादियों के खिलाफ सुरक्षाबलों ने चलाए आपरेशन प्रहार से माओवादियों की कमर तोड़ कर रख दी.

  • Share this:
सरकार की लाल आतंक के खिलाफ लड़ाई पिछले साढ़े तीन दशकों से जारी है, लेकिन छत्तीसगढ के बस्तर में ये पहला मौका होगा जब साल 2017 में माओवादियों के खिलाफ सुरक्षाबलों ने चलाए आपरेशन प्रहार से माओवादियों की कमर तोड़ कर रख दी. पिछले साल हुई मुठभेड़ में कई टॉप मोस्ट लीडर ढेर हुए तो कई गिरपतार तो कई ने मुख्यधारा में शामिल होकर नक्सलवाद की विचारधारा से ही तौबा कर लिया.

पुलिस का दावा है कि लाल आतंक की लड़ाई अब निणार्यक मोड पर है. जगदलपुर के होमगार्ड सेंटर में साल 2017 में पुलिस को मिली सफलताओं पर जानकारी देते हुए बस्तर रेंज के आई जी विवेकानंद सिन्हा ने बताया कि साल 2017 बस्तर पुलिस के लिए काफी अच्छा रहा. आईजी के मुताबिक साल 2017 में बस्तर रेंज में कुंल 1235 नक्सल विरोधी अभियान चलाए गए. जिसमें 186 पुलिस नक्सली मुठभेड हुई. इन मुठभेडों में 68 माओवादियों के शव बरामद किए गए तो वहीं 1010 माओवादी गिरप्तार हुए. 368 माओवादियों ने आत्मसमर्पण किया. इसमें डीवीसी मेम्बर से लेकर एरिया और डिप्टी कमाडर जैसे माओवादी शामिल थे.

नक्सल मामलों के अलावा पुलिस ने आईपीसी के अपराधों में भी रिकॉर्ड तोड़ कार्रवाई करने का दावा किया है.
रेज के आईजी विवेकानंद सिन्हा के मुताबिक हत्या, बलात्कार, डकैती, लूट, योन उत्पीड़न, देहज, नकबजनी, बलवा, धोखाधड़ी सहित जाली नोट के मामले में पूरे बस्तर रेज में करीब 4817 मामले दर्ज करते हुए. इन मामलों में आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजा गया है.



जो आकंडे पिछले साल दर्ज हुए हैं उन आंकडों में साल 2016 और 2015



की अगर तुलना करे बीते साल आकंड़ों में कमी आयी है. आईजी का दावा है कि पुलिस की मुस्तैदी के चलते नक्सलवाद से लेकर आईपीसी जैसे अपराधों का ग्राफ बस्तर में अब लगातार गिर रहा है.

सुरक्षाबलों द्वारा पिछले कुछ समय से जो कार्रवाई माओवादियों के खिलाफ की जा रही है, उसका हवाला देते हुए बस्तर रेंज के आई जी ने दावा किया है कि बस्तर संभाग में अब केवल दो ही जिले बीजापुर और सुकमा ही नक्सल प्रभावित इलाकों की सूची में शामिल हैं. बाकी के जिलों में नक्सलवाद बहुत सिमट गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading