Home /News /chhattisgarh /

नक्सलियों से निपटने के लिए होगा 850 किलोमीटर नई सड़कों का निर्माण

नक्सलियों से निपटने के लिए होगा 850 किलोमीटर नई सड़कों का निर्माण

PIC : PTI

PIC : PTI

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने छत्तीसगढ़ को नक्सल समस्या से निजात के लिए केन्द्र सरकार की ओर से सहयोग लगातार जारी रखने का आश्वासन दिया है.

    केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने छत्तीसगढ़ को नक्सल समस्या से निजात के लिए केन्द्र सरकार की ओर से सहयोग लगातार जारी रखने का आश्वासन दिया है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में कानून व्यवस्था की स्थिति और वहां आम जनता की बेहतरी के लिए चल रहे विभिन्न विकास कार्यों की समीक्षा की.

    राजनाथ सिंह ने बैठक में मुख्यमंत्री को नक्सल समस्या के उन्मूलन के लिए केन्द्र सरकार की ओर से सहयोग लगातार जारी रखने का आश्वासन दिया. उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ के नक्सल क्षेत्रों में सड़कों का नेटवर्क बढ़ाने के लिए 850 किलोमीटर नई सड़कों का निर्माण किया जाएगा और इसके लिए पर्याप्त धनराशि राज्य को दी जाएगी. उन्होंने प्रभावित इलाकों में 50 नए पुलिस थानों और 35 नए मोबाइल टावरों की भी तुरंत स्वीकृति देने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि इन्हें मिलाकर वहां की सभी मोबाइल टावरों की क्षमता बढ़ाई जाएगी.

    बैठक की अध्यक्षता करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा नक्सल क्षेत्रों में किए जा रहे विकास कार्यों के फलस्वरूप वहां के जनजीवन में काफी बड़ा परिवर्तन आया है. उन्होंने यह भी कहा कि रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार को इन क्षेत्रों में जिस तरह काम करना चाहिए, उसने किया है और अपना दायित्व निभाया है. इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री, राज्य सरकार सरकार, सुरक्षा बलों, अर्धसैनिक बलों और सभी संबंधित अधिकारियों को बधाई दी.

    इस दौरान मुख्यमंत्री रमन सिंह ने केंद्रीय गृह मंत्री को केन्द्र के सहयोग से राज्य शासन द्वारा नक्सल समस्या को समाप्त करने के लिए लगातार किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी. केन्द्रीय गृह मंत्री ने इस बात पर संतुष्टि जताई कि नक्सल मोर्चे पर विगत कैलेण्डर वर्ष 2016 छत्तीसगढ़ के लिए बड़ी उपलब्धियों का वर्ष रहा. बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र से राज्य को निरंतर सहयोग मिल रहा है. प्रभावित क्षेत्रों में शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क निर्माण और संचार व्यवस्था सहित हर प्रकार की बुनियादी सुविधाएं तेजी से विकसित की जा रही हैं. रमन सिंह ने इसके लिए केंद्रीय गृह मंत्री के प्रति आभार प्रकट किया.

    रमन सिंह ने कहा कि राज्य और केन्द्र के सुरक्षा बलों के जवान और अधिकारी नक्सल क्षेत्रों में पूरी मुस्तैदी के साथ अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं. उनका मनोबल भी बहुत ऊंचा है. मुख्यमंत्री ने नक्सल समस्या को समाप्त करने के लिए केन्द्र सरकार की ओर से लगातार मिल रहे सहयोग का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने छत्तीसगढ़ की नक्सल समस्या को काफी गंभीरता से लिया है. राजनाथ सिंह लगातार इसकी निगरानी कर रहे हैं. उन्होंने पिछले साल राज्य को चार नई भारत रक्षित वाहिनियों (आई.आर. बटालियनों) की मंजूरी दी, इसके अलावा भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आई.टी.बी.पी.) की पांच अतिरिक्त बटालियनें भी छत्तीसगढ़ को दी गई है.

    केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) द्वारा बस्तर अंचल के स्थानीय युवाओं को रोजगार का अवसर देने के लिए बस्तरिया बटालियन का भी गठन किया गया है और उसमें भर्ती की जा रही है. डीआरजी के 1655 जवानों को पांच बैचों में वारंगटे (मिजोरम) में प्रशिक्षण दिया गया है और 350 जवानों का प्रशिक्षण सत्र अभी चल रहा है. प्रशिक्षण से जवानों का आत्मविश्वास बढ़ा है.

    मुख्यमंत्री ने कहा कि मोबाइल टावरों की संख्या और क्षमता बढ़ाने पर इन क्षेत्रों में नगदी रहित (कैशलेस) लेन-देन को भी बढ़ावा मिलेगा. नारायणपुर, बीजापुर और कोण्डागांव जिलों में जवाहर नवोदय विद्यालय स्वीकृत किए गए हैं. बस्तर रेंज में विभिन्न बैंकों की 36 नई शाखाएं खोली गई हैं. सौर ऊर्जा कनेक्टिविटी पैकेज के तहत 382 गांवों को सोलर प्रणाली से बिजली दी जा रही है.

    रमन सिंह ने कहा कि बस्तर अंचल को रेल मार्ग से जोड़ने के कार्य में तेजी आई है. इसके अलावा 25 नये स्कूल भी स्वीकृत किए गए हैं. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में बस्तर संभाग के सुकमा, बस्तर, कांकेर, कोण्डागांव और नारायणपुर जिले के साथ-साथ जिला राजनांदगांव को भी स्पेशल फोकस वाला जिला घोषित किया गया है. मुख्यमंत्री यह भी कहा कि नक्सल क्षेत्रों में केन्द्र के सहयोग से छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा विकास के काफी कार्य किए गए है और किए जा रहे हैं. इसका असर भी वहां देखा जा रहा है. अंदरूनी क्षेत्रों के हाट बाजारों में लोगों की काफी चहल-पहल होने लगी है. यातायात व्यवस्था भी सुगम हो रही है. बसों का आवागमन लगातार बढ़ रहा है.

    सिंह ने कहा कि पहले इन क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण के लिए बार-बार टेंडर करने पर भी ठेकेदार सामने नहीं आते थे, लेकिन अब सड़कों के निर्माण के लिए उनमें काफी उत्साह देखा जा रहा है. वहां के लोग नक्सलवाद से मुक्त होना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि यह कामयाबी केन्द्र सरकार की मदद से मिली है. उन्हें विश्वास है कि इसी गति से अगर काम करते रहे तो विकास कार्यों के जरिए लोगों का दिल जीतकर और सुरक्षा बलों के सहयोग से अगले एक-दो वषरें में समस्या को पूर्ण रूप से हल किया जा सकता है.

    Tags: Chhattisgarh news, Rajnath Singh

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर