Bijapur Encounter: नक्सली हमले में शहीद हुए 12 जवानों के शव जगदलपुर लाए गए, यहां देंगे गार्ड ऑफ ऑनर

बीजापुर नक्सल अटैक में शहीद हुए जवानों के शव हेलीकॉप्टर से जगदलपुर लाए गए हैं.

बीजापुर नक्सल अटैक में शहीद हुए जवानों के शव हेलीकॉप्टर से जगदलपुर लाए गए हैं.

छत्तीसगढ़ में बीजापुर के जंगलों में नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद हुए 22 जवानों का बदला लेने के लिए CRPF बड़ी रणनीति बना रही है. इधर, सीएम भूपेश बघेल ने रायपुर में घायल जवानों से मुलाकात कर उनका हौसला बढ़ाया है.

  • Share this:
जगदलपुर. छत्तीसगढ़ में सुकमा और बीजापुर की सीमा पर स्थित जंगलों में सुरक्षा बलों और नक्सलियों की मुठभेड़ के बाद 22 जवान शहीद हो गए और कई घायल हुए. जवानों के शवों को वापस लाने और घायलों को मदद पहुंचाने के लिए वायुसेना के हेलिकॉप्टर लगाए गए हैं. शहीद जवानों के शवों को जगदलपुर लाया जा रहा है. इनमें 12 जवानों के शव सेना के हेलीकॉप्टर MI-17 से जगदलपुर एयरपोर्ट पर लाया गया. यहां से 5 एम्बुलेंस के जरिये शहीद जवानों के शवों को डिमरापाल मेडिकल कालेज लाया गया. जहां पर पोस्टमार्टम के बाद गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा.

हालांकि बीच में मौसम खराब होने से आई धूल भरी आंधी ने हेलिकॉप्टरों के उड़ान भरने में रोड़ा अटकाया. तेज हवाओं के साथ हुई बारिश भी हुई, लेकिन ‌इन हालातों में भी जवानों ने अपने साथियों को वापस लाने की ठान ली और ऐसे हालातों में भी वे लगातार शहीदों और घायलों को जगदलपुर तक लाने में जुटे रहे.

Youtube Video


घायल जवानों को लाया गया रायपुर
इसके साथ ही नक्सली हमले में जख्मी बलविंदर सिंह सीआरपीएफ,सोनू मंडावी एसटीएफ, बसंत झड़ी डीआरजी, लक्ष्मण हेमला डीआरजी, भास्कर यादव एसटीएफ, सूर्यभान सिंह सीआरपीएफ, गंभीर रूप से घायल जवानों को रायपुर लाया गया है.

Youtube Video


पहली मुठभेड़ जिस गांव में हुई, वहां का नजारा दहलाने वाला



बता दें कि बीजापुर में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो चुके हैं.  इसकी पुष्टि पुलिस कर चुकी है. अब भी एक जवान लापता बताया जा रहा है. घटनास्थल पर पहुंची न्यूज 18 की टीम ने जो दृश्य देखे, वह दिल को दहला देने वाले हैं. नक्सलियों से सुरक्षा बलों की पहली मुठभेड़ बीजापुर और सुकमा की सीमा पर स्थित टेकुलगुड़ा गांव में हुई थी. यहां पर कई जवान शहीद हुए और साथ ही कई नक्सली भी मारे गए. गांव में अलग-अलग जगहों पर सुरक्षा बलों के शव मिले हैं. शर्मनाक बात यह है कि नक्सली उन जवानों के मृत देह से कपड़े और जूते तक निकाल ले गए हैं.

नक्सलियों को नेस्तानाबूत करने की कार्रवाई होगी : CRPF  

घटना के 24 घंटे बाद मुठभेड़ में शहीद हुए जवानों के शव बरामद किए जा सके हैं. नक्सलियों के मंसूबे किस कदर खतरनाक थे, यह मुठभेड़ के बाद बरामद जवानों के शव देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है. अब सीआरपीएफ ने नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब देने की रणनीति बना रही है. बीजापुर मुठभेड़ को लेकर मीडिया के साथ बातचीत के दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के डीजी ने यह संकेत दिया है. डीजी कुलदीप सिंह ने कहा कि माओवादियों को लेकर बड़ी रणनीति बना रहे हैं.

CRPF के डीजी कुलदीप सिंह ने कहा कि बीजापुर मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों की ओर से माओवादियों को करारा जवाब दिया जाएगा. माओवादियों पर नकेल कसने के लिए पुलिस उनकी मांद में घुसेगी और बड़ी कार्रवाई करेगी. सीआरपीएफ के डीजी ने कहा कि जमीन से लेकर आसमान तक की कार्रवाई कर माओवादियों को नेस्तनाबूत करने तक यह ऑपरेशन चलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज