बिना इलाज के ही अस्‍पताल ने स्‍मार्ट कार्ड से निकाल लिए 18 हजार रुपए!

Vinod Kushwaha | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: August 12, 2017, 7:36 PM IST
बिना इलाज के ही अस्‍पताल ने स्‍मार्ट कार्ड से निकाल लिए 18 हजार रुपए!
महारानी अस्‍पताल का स्‍मार्ट कार्ड पंजीयन कक्ष.
Vinod Kushwaha | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: August 12, 2017, 7:36 PM IST
गरीबों का फ्री में इलाज हो सके, इसके लिए छत्‍तीसगढ़ सरकार ने स्मार्ट कार्ड योजना प्रदेश में शुरू की है, लेकिन स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के जिम्मेदार लोग इस योजना से भोले-भाले गरीबों को लाभ पहुंचाने के बजाए स्मार्ट कार्ड के जरिए बिना इलाज किए ही रुपए निकाल रहे हैं. इस धोखाधड़ी के शिकार लोग जिम्मेदारों के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन उन्हें कोई राहत नहीं मिल रही है.

मामला एक ऐसे ही पीड़ि‍त का है, जो अपने पिता का ऑपरेशन कराने के लिए उन्‍हें जगदलपुर के महारानी अस्पताल लेकर आया था. डॉक्टरों ने ऑपरेशन की तैयारी कर ली, लेकिन ऑपरेशन जटिल होने के चलते डॉक्टरों ने ऐनवक्‍त पर मना करते हुए मरीज को रायपुर के लिए रेफर कर दिया.

इसके बाद परिजन उन्‍हें राजधानी रायपुर ले जाने की तैयारी कर रहे थे. उस दौरान मरीज के परिवार वाले अस्पताल में जमा स्मार्ट कार्ड लेने पहुंचे, तो उन्हें पता चला कि प्रबंधन ने इलाज के नाम पर स्‍मार्ट कार्ड से 18 हजार रुपए निकाल लिए हैं. जब परिजनों ने आपत्ति जताई तो प्रबंधन ने नियमों का हवाला देते हुए गरीब परिवार को अस्पताल से भगा दिया. परेशान परिजन स्मार्ट कार्ड से निकली रकम पाने के लिए अस्पताल प्रबंधन के चक्कर लगा रहे हैं.

स्मार्ट कार्ड से बिना इलाज के रुपए निकलने का ये एक अकेला मामला नहीं है. इससे पहले भी कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें सर्दी-जुकाम का इलाज करने के नाम पर स्मार्ट कार्ड से पांच हजार रुपए निकाल लिए गए.

बस्तर के दूरदराज इलाकों से हर दिन करीब सौ से डेढ़ सौ स्मार्ट कार्डधारी इलाज कराने के लिए मेकाज पहुचते हैं. जिस तरह की लापरवाही मेकाज प्रबंधन कर रहा है, उससे साफ है कि बिना इलाज के स्मार्ट कार्ड से रुपए निकाले जाने का बड़ा गोलमाल महारानी अस्पताल में चल रहा है.

पूरे मामले में मेकाज प्रबंधन अपनी अलग तरह की सफाई दे रहा है. मेकाज के अधीक्षक इस मामले से पल्ला झाड़ते हुए इस मामले में मेकाज प्रबंधन की कोई भूमिका नहीं होने की बात कह रहे हैं.
First published: August 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर