अपना शहर चुनें

States

योजना के बिना खोले गए जनऔषधि केंद्र,8 में से 7 दवा केंद्र बंद

घबराहट, बैचेनी और जोड़ों में रहता है दर्द तो आपको है इस विटामिन की कमी-Vitamin D deficiency treatment, causes, symptoms signs
घबराहट, बैचेनी और जोड़ों में रहता है दर्द तो आपको है इस विटामिन की कमी-Vitamin D deficiency treatment, causes, symptoms signs

प्रदेश के अंतिम छोर तक स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने की सरकार की कवायद कहीं न कहीं विफल होते हुए दिखाई दे रही है

  • Share this:
बेमेतरा जिले में लोगों को सस्ती दर पर दवाई मुहैया कराने के लिए जिला मुख्यालय सहित नवागढ़ और साजा ब्लॉक में शुरू किए गए
जनऔषधि केन्द्रों में दवाइयों की बिक्री नहीं हो रही है.जिम्मेदार अधिकारियों की उदासीनता के चलते कई औषधि केन्द्र बंद हो रहे है.

बेमेतरा में स्थिति ऐसी हो गई है कि जिले में खोले गए 8 में से 7 जनऔषधि केन्द्र बंद हो चुके है. बाकी बचे एक केंद्र ने बंद करने के लिए आवेदन दे रखा है.बिना ठोस कार्ययोजना के जनऔषधि केन्द्र खुलवा तो दिए गए पर
प्राइवेट प्रेक्टिस करने वाले डॉक्टर जेनरिक दवाओं को लेकर गंभीर नहीं
है.परिणाम स्वरूप जेनरिक दवाओं की बिक्री नहीं हो पा रही है.

शासन द्वारा भी ऐसी कोई व्यवस्था नहीं बनाई गई की प्राइवेट डॉक्टर मरीजों की आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखकर जेनरिक दवाएं लिखे. जनऔषधि केन्द्र में मिलने वाले जेनरिक दवाओं के दाम बाजार में मिलने वाली दवाओं से आधे से भी कम होते है. आपको बता दें कि बाजार में आयरन सिरप का दाम 80 रुपए है, वहीं औषधि केन्द्र में 18 रुपए में बेची जा रही है.इसी प्रकार पैरालीटामाल के 10 गोलियां का दाम 10 रुपए, जेनरिक का 3 रुपए है. कमीशनखोरी के चक्कर में डॉक्टर जेनरिक दवा नहीं लिख रहे है. साथ ही एसा भ्रम फैलाया जा रहा है कि इन दवाओं का असर नहीं होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज