अपना शहर चुनें

States

यहां शौचालय बनवाने के बाद पैसे के लिए भटक रहे हितग्राही

राशि की मांग को लेकर कलेक्टोरेट पहुंची महिलाएं.
राशि की मांग को लेकर कलेक्टोरेट पहुंची महिलाएं.

बेमेतरा जिले में सबसे पहले ओडीएफ घोषित किए गए बेरला जनपद पंचायत में शैाचालय निर्माण को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है.

  • Share this:
बेमेतरा जिले में सबसे पहले ओडीएफ घोषित किए गए बेरला जनपद पंचायत में शैाचालय निर्माण को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. ताजा मामला ग्राम पंचायत कुसमी का है. यहां स्वयं के खर्च पर शौचालय निर्माण करने वाले 106 हितग्राहियों को अभी तक 12,7200 हजार रुपए का भुगतान पंचायत द्वारा नहीं किया गया है. इसके कारण करीब साल भर से गांव के सैकड़ों हितग्राहियों को अनुदान के लिए बेरला जनपद व कलेक्टोरेट का चक्कर लगाना पड़ रहा है.

ग्रामीणों ने इस बाबत पहले भी शिकायत की थी, लेकिन इसके बाद भी आज तक प्रभावितों को राहत नहीं मिल पाई है. इसके बाद फिर करीब 100 से अधिक हितग्राहियों ने जिला प्रशासन का दरवाजा खटखटाया है. प्रभावितों की माने तो उन्होंने कर्ज लेकर शौचालय का निर्माण कराया था, लेकिन सालभर बाद भी उन्हें सरकार से मिलने वाली अनुदान राशि नहीं मिली है.

अब कर्ज देने वाले घर में आकर तगादा कर रहे हैं. इधर शौचालय निर्माण मे हुई अनिमियतता की पोल भी ग्रामीण खोल रहे हैं.
बता दें कि आनन फानन मे बेरला ब्लॉक को ओडीएफ घोषित करा कर इनाम लिया गया था, लेकिन विवाद के बाद जनपद अध्यक्ष ने खुद ये माना था कि जिला प्रशासन के दबाव मे आकर वे इनाम लेने गये थे.



बेमेतरा कलेक्टर कार्तिकेया गोयल का कहना है कि मामले में जल्द ही उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं. सत्यापन के बाद हितग्राहियों को शौचालय निर्माण का भुगतान कर दिया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज