अपना शहर चुनें

States

जल प्रदाय योजना पर लोकार्पण से पहले ही मंडराने लगा खतरा

जल प्रदाय योजना पर लोकार्पण से पहले ही मंडराने लगा खतरा
जल प्रदाय योजना पर लोकार्पण से पहले ही मंडराने लगा खतरा

छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले में खारे पानी से निजात पाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर बनाए गए समूह जल प्रदाय योजना पर लोकार्पण से पहले ही खतरा मंडराने लगा है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले में खारे पानी से निजात पाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर बनाए गए समूह जल प्रदाय योजना पर लोकार्पण से पहले ही खतरा मंडराने लगा है. शिवनाथ नदी पर बने नांदघाट एनीकट में निर्माण के दौरान बरती गई लापरवाही का ही असर है कि नवागढ़ विकासखंड को खारे पानी की समस्या से जूझना पड़ रहा है. लिहाजा, अब इससे निजात दिलाने के लिए बनाई गई समूह जल प्रदाय योजना पर इसका असर पड़ने वाला है.

एनीकट में रोके गए पानी के लगातार रिसाव से पानी बेकार बह जा रहा है. इससे एनीकट में बनाए जाने वाले इंटकवेल को जरूरत के लिहाज से पानी ही नहीं मिल पाएगा. प्रदेश के सबसे बड़े समूह पेयजल प्रदाय योजना में से एक नवागढ़ समूह पेयजल प्रदाय योजना के तहत खारे पानी से प्रभावित 54 गांवों में फिल्टर किया हुआ पेयजल उपलब्ध कराना है.

जानकार मानते हैं कि जिस तरह से एनीकट से जल रिसाव हो रहा है, उसे देखते हुए नांदघाट एनीकट का पानी कुछ ही महीनों तक लोगों की आवश्यकता को पूरा कर सकता है. इसके बाद पानी की आपूर्ति को लेकर लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ेगा.



लिहाजा, नवागढ़ गांव के लोगों को खारे पानी से मुक्ति दिलाने के लिए तैयार की गई योजना पर अब नांदघाट एनीकट के निर्माण में खामी के कारण संकट मंडराने लगा है. इससे उबरने के लिए करीब के अमलडीहा एनीकट पर सिस्टम तैयार कर पाइप लाइन का विस्तार करने की आवश्यकता है. ताकि लोगों को जल्द ही शुद्ध पेयजल मिल सके, नहीं तो 6145 लाख के प्रोजेक्ट की उपयोगिता धरी की धरी रह जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज