अपना शहर चुनें

States

105 वर्षीय बुजुर्ग महिला को 9 माह से नहीं मिला पेंशन, कलेक्टर ने सुनी गुहार

demo pic
demo pic

बेमेतरा जिले में बुजुर्गों की मुसीबत कम होती नजर नहीं आ रही है. कभी आधार लिंकिंग, तो कभी बैंक खाते खोलने और कभी सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी होने के कारण जिले के हजारों बुजुर्ग पेंशनरों को पेंशन समय पर नहीं मिल पा रही है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले में बुजुर्गों की मुसीबत कम नहीं हो रही है. कभी आधार लिंकिंग, तो कभी बैंक खाता खोलने और कभी सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी होने से जिले के हजारों बुजुर्ग पेंशनरों को पेंशन समय पर नहीं मिल पा रही है. हर सप्ताह जनदर्शन में लगातार हितग्राही शिकायत लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचते हैं, लेकिन हर बार महज आश्वासन ही मिलता है. इसी क्रम में शुक्रवार को एक बार फिर 105 वर्ष की बुजुर्ग महिला मंगतिन बाई पेंशन के लिए भटक रही है. उन्हें 9 माह से पेंशन नहीं मिला है.

लिहाजा, इस दौरान पेंशन के लिए लकड़ी के सहारे वह भी कलेक्ट्रेट के चक्कर लगाने को मजबूर हैं. मामला बेमेतरा जिले के ग्राम छितापार का है.

जिस उम्र तक आदमी को बिस्तर से उठना मुश्किल हो जाता है. उस उम्र में पेंशन नहीं मिलने से परेशान महिला यहां वहां भटकने को मजबूर हो गई है. प्रशासन द्वारा समस्त पेंशनों को ऑनलाइन और डिजिटल किया गया है, जिसके चलते पेंशनरों की राशि सीधा हितग्राहियों के खाते में डाले जाने का प्रावधान है.



वहीं मंगतिन बाई की उम्र ज्यादा होने के कारण उनका फिंगर प्रिंट काम नहीं कर रहा है, जिससे उनका बैंकों में खाता नहीं खुल पा रहा है. अब वृद्धा ने कलेक्टर से पेंशन के लिए गुहार लगाई है. वहीं कलेक्टर ने अधिकारियों को एक सप्ताह में वृद्ध को पेंशन देने आदेशित किया है. बता दें के जिले में 10 हजार से ज्यादा हितग्राहियों को कुछ न कुछ तकनीकी खामियों की वजह से पेंशन नहीं मिल पा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज