होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /बीजापुर: आफत की बारिश में दो ग्रामीण बहे, दर्जनों मकान ढहे

बीजापुर: आफत की बारिश में दो ग्रामीण बहे, दर्जनों मकान ढहे

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में बीते दो दिनों से मूसलाधार बारिश से भोपालपट्नम सहित कई इलाकों में बाढ़ के हालात निर्मित हो गए है ...अधिक पढ़ें

    छत्तीसगढ़ के बीजापुर में बीते दो दिनों से मूसलाधार बारिश से भोपालपट्नम सहित कई इलाकों में बाढ़ के हालात निर्मित हो गए हैं. प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में रिकाॅर्ड बारिश के मामले में अब तक भोपालपट्टनम तहसील में सर्वाधिक वर्षा हुई है. रिकाॅर्ड वर्षा 396.8 मिमी दर्ज की गई है. लगातार हो रही मूसलाधार बारिश की वजह से पिछले चैबीस घंटे से भोपलपट्नम, तारलागुड़ा, मद्देड़ समेत आस-पास का समूचा इलाका टापू बन चुका है.

    बीजापुर के राल्लापल्ली में गुरुवार की सुबह दो ग्रामीण के बाढ़ के पानी में बह गए हैं, जो अब तक लापता हैं. लगातार बारिश के चलते चिंतावागु और इंद्रावती का जलस्तर तेजी से बढ़ा है, जिसके चलते मद्देड़ से आगे भोपालपट्नम मार्ग पर नदी का पानी चढ़ जाने से पिछले कई घंटों से नेशनल हाइवे पर आवागमन पूरी तरह ठप है. बढ़ते जलस्तर की वजह से मद्देड़ से भोपालपट्नम के मध्य कई किलोमीटर तक नेशनल हाइवे पूरी तरह जलमग्न हो गया है.

    बीजापुर में मोदकपाल के नजदीक से होकर बहने वाले नाले पर बने पुल के उपर से रात भर बाढ़ का पानी बहता रहा. हालांकि सुबह होते ही बाढ़ का पानी पुल से नीचे तक हो चुका था. भारी बारिश के कारण भोपालपटनम और बीजापुर के बीच बने 2 डायवर्सन मार्ग भी बह गए थे, जिसे दोपहर के आसपास दुरुस्त किया गया. फिलहाल भोपालपतनम का संपर्क बीजापुर से पूरी तरह से कटा हुआ है. इतना ही नहीं बाढ़ के कहर से मद्देड़ इलाके में दो सौ एकड़ से ज्यादा खेत पूरी तरह जलमग्न हो गए हैं.

    Chhattisgarh-Flood-Bijapur
    बीजापुर में बाढ़ का पानी गांव में घुस गया है.


    किसानों के मुताबिक हाल ही में उन खेतों में रोपाई कार्य संपन्न हुआ था, लेकिन बाढ़ आ जाने से फसल तैयार होने से पहले तबाह हो गई है.
    दूसरी तरफ मद्देड़ इलाके में बीती रात आस-पास के कई गांवों में बाढ़ का पानी घुस आया, जिसके चलते दर्जनों मकान ढह गए. कई घरों में घुटनों से उपर तक पानी भर गया. बाढ़ से प्रभावित दर्जनों ग्रामीण बेघर हो चुके हैं. मद्देड़ में दर्जनभर परिवार कपड़े-लत्ते के साथ सड़क किनारे मदद की गुहार लगाते नजर आए.

    हालांकि प्रशासन की ओर से इन्हें फौरी राहत देते हुए नजदीक के पोटाकेबिन में ठहरने और भोजन की व्यवस्था की गई है. चिंतावागु और इंद्रावती के रिवर्स वाटर की वजह से पटनम मार्ग पर पड़ने वाला पेगड़ापल्ली गांव के बाढ़ से घिरने की खबर है. वहीं खबर यह भी मिल रही है कि पेगड़ापल्ली पोटाकेबिन भी बाढ़ की चपेट में आ गया है, जिसके चलते 200 से अधिक बच्चों के आफत में फंसने की जानकारी मिल रही है. हालांकि प्रशासन की तरफ से रेस्क्यू के पूरे प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन सड़क जलमग्न होने से प्रशासन की रेस्क्यू टीम प्रभावित इलाकों तक पहुंचने में नाकाम है.

    बाढ़ग्रस्त इलाकों तक मदद पहुंचाने प्रशासन स्तर पर प्रयास अवश्य किए जा रहे है, लेकिन पहुंच की समस्या के चलते प्रभावितों तक मदद नहीं पहुंच पा रही है. एसडीएम डीसी बंजारे ने मीडिया को बताया कि मद्देड़ समेत पटनम तहसील में बाढ़ से काफी नुकसान की खबरें मिली है, लेकिन उन इलाकों तक संपर्क नहीं हो पाया है. पेगड़ापल्ली में भी पोटाकेबिन के बच्चों के बाढ़ में फंसे होने की खबरें आई है, लेकिन सड़क लबालब होने से टीम आगे नहीं बढ़ पा रही है.

    Tags: Bijapur news, Chhattisgarh news, Flood

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें