Bijapur Encounter: नक्सलियों से मुठभेड़ के बाद एक जवान अभी भी लापता, खोज रहे हैं सुरक्षा बल

आईजी सुंदरराज ने बताया कि शहीदों को सोमवार को गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा.

आईजी सुंदरराज ने बताया कि शहीदों को सोमवार को गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा.

बस्तर रेंज के आईजी सुंदरराज ने बताया कि हमले के बाद नक्सली बड़ी मात्रा में सुरक्षा बलों के हथियार भी लूट कर ले गए हैं.

  • Share this:
जगदलपुर. बीजापुर में सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद अब बस्तर रेंज के आईजी पी सुंदरराज ने बताया कि इस मुठभेड़ के बाद एक जवान अभी भी लापता है और उसकी कोई जानकारी अभी नहीं मिल सकी है. आईजी के अनुसार लापता जवान का नाम राकेश्वर सिंह मनहास है और वो कोबरा 210 बटालियन से संबंधित है. सुंदरराज ने बताया कि जवान जम्मू कश्मीर का रहने वाला है. लापता जवान को खोजने के लिए लगातार सुरक्षाबल के जवानों सहित वायुसेना भी काम कर रही है लेकिन उसका अभी कोई सुराग नहीं मिला है. इसके साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि माओवादियों ने सुरक्षाबलों के हथियार भी लूटे हैं जिनमें 6 एके 47, दो एसएलआर, एक एलएमजी शामिल है.

सुंदरराज ने बताया कि अब शहीद हुए जवानों को सोमवार को अंतिम विदाई दी जाएगी. पुलिस ग्राउंड में सुबह 10 बजे उन्हें गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा. इसके बाद शहीद जवानों को उनके गृह ग्राम की ओर रवाना किया जाएगा. उन्होंने बताया कि रविवार को 12 जवानों के शवों को बीजापुर लाया गया और ‌डिमरापाल मेडिकल कॉलेज में उनका पोस्टमार्टम चल रहा है.

Youtube Video


वहीं जानकारी के अनुसार मुठभेड़ में डीआरजी-8, एसटीएस-6, कोबरा-7 और बस्तर बटालियन का 1 जवान शहीद हुए हैं. वहीं मुठभेड़ में 31 जवान घायल हुए हैं. घटना में 13 जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं. गंभीर रूप से घायल जवानों को बेहतर उपचार के लिए एयरलिफ्ट कर रायपुर भेजा गया है. मुठभेड़ के दौरान घायल अन्य को 18 जवानों को उपचार जिला अस्पताल बीजापुर में किया जा रहा है घटना के बाद से कोबरा 210 जवान राकेश्वर सिंह मनहास का लोकेशन नहीं मिल पा रहा है, जिनकी तलाश लगातार जारी है.
पुलिस का कहना है कि सीपीएम माओवादियों द्वारा ताकतवर गोरिल्ला फोर्स का इस्तेमाल लोगों को डराने के लिए किया जा रहा है. इससे निपटने के लिए PLGA Battalion No 1 के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई की जा रही है. कठिन भौगोलिक परिस्थिति और माओवादियों का कोर क्षेत्र होने के बावजूद अपनी जान की परवाह किए बिना डीआरजी, एसटीएफ, कोबरा और सीआरपीएफ के जवानों ने लगातार नक्सलियों की मांद में घुसकर प्रभावी कार्रवाई की है और ये जारी रहेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज