बस्तर के ग्रामीण इलाकों में नुक्कड़-नाटक कर नक्सली जारी कर रहे हैं चुनाव बहिष्कार का फतवा

लोकसभा चुनाव 2019 में पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होगा. छत्तीसगढ़ में इस चरण में एक मात्र सीट बस्तर में वोटिंग होगी.

Mukesh Chandrakar | News18 Chhattisgarh
Updated: April 5, 2019, 11:03 AM IST
बस्तर के ग्रामीण इलाकों में नुक्कड़-नाटक कर नक्सली जारी कर रहे हैं चुनाव बहिष्कार का फतवा
बीजापुर के गांव में चुनाव बहिष्कार को लेकर नक्सली फरमान जारी कर रहे हैं.
Mukesh Chandrakar | News18 Chhattisgarh
Updated: April 5, 2019, 11:03 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019 में पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होगा. छत्तीसगढ़ में इस चरण में एक मात्र सीट बस्तर में वोटिंग होगी. इसके लिए एक ओर जहां निर्वाचन आयोग जोर शोर से तैयारी कर रहा है, साथ ही मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करने के लिए कला जत्था और अन्य माध्यमों से कई कार्यक्रम शहर और ग्रामीण अंचलों के हाट-बाजारों में आयोजित कर रहा है. ताकि लोस चुनाव में अधिक से अधिक लोग अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें. वहीं दूसरी ओर बस्तर संसदीय क्षेत्र के बीजापुर जिले के एक बड़े हिस्से में नक्सली भी अपने जन चेतना नाट्य मंडली के माध्यम से गांव-गांव में नृत्य और नाटकों के मंचन से लोगों को लोस चुनाव और मतदान के बहिष्कार की पाठ पढ़ा रहे हैं.

नक्सली नेताओं का कहना है कि राजनैतिक पार्टियां चुनाव के दौरान लोक लुभावना प्रचार और वायदों के साथ वोट तो मांग लेते हैं, लेकिन चुनाव जितने के बाद वे उन मतदाताओं और क्षेत्र के विकास को पूरी तरह भूल जाते हैं. यही नहीं बल्कि आदिवासियों के हितैषी बनकर वोट मांगने आने वाले नेता जीतने के बाद कई सालों तक उन्हीं आदिवासियों का शोषण भी करने से नहीं चूकते. इस समय चुनाव बहिष्कार के ऐसे कई कार्यक्रम नक्सली गांव-गांव में आयोजन कर रहे हैं.

बीजापुर के गांव में चुनाव बहिष्कार को लेकर नाट्य के जरिए नक्सली फरमान जारी कर रहे हैं.


हाल ही में पत्रकारों का एक दल लोकसभा चुनाव से जुड़ी कवरेज के लिए बीजापुर के अंदरूनी इलाके में गया हुआ था. तीन दिन पहले बीजापुर पत्रकारों एक दल लोकसभा चुनाव को लेकर पहुंचविहीन इलाकों में मतदान की स्थिति पर खबर बनाने निकला हुआ था, लेकिन पत्रकारों का दल उन गांवों तक पहुंच पाता उसके पहले ही नक्सलियों ने बीच रास्ते में रोक लिया और करीब एक घंटे के पैदल सफर के बाद वे पत्रकारों को उस जगह ले गए जहां लाल बैनरों के तले कई ग्रामीण एकत्र थे और उनके बीच नक्सलियों की जन चेतना नाट्य मंडली चुनाव बहिष्कार का आह्वान करते हुए कार्यक्रम का प्रदर्शन कर रहा था.

ग्रामीण इलाकों में बैनर पोस्टर लगाकर नक्सली चुनाव बहिष्कार का फरमान जारी कर रहे हैं.


गौरतलब है कि चुनाव के दौरान बस्तर के अंदरूनी इलाकों में माओवादी चुनाव का बायकाट करते रहे हैं. नक्सल समस्या के चलते ही लोकसभा चुनाव में गत विधानसभा चुनाव के मुकाबले अधिक संख्या में पोलिंग बूथों को षिफ्ट करने का निर्णय भी लिया गया है. ऐसे में जब अपने मांद वाले इलाकों में नक्सलियों की तरफ से गांव-गांव सभाएं लेकर चुनाव बहिष्कार का फतवा जारी किया जा रहा है, इसके मद्देनजर यह सवाल जरूर उठता है कि नक्सली दबाव के बीच आदिवासियों का एक बड़ा तबका आखिर कैसे अपने मताधिकार का प्रयोग कर पाएगा?
ये भी पढ़ें: सीएम का गिफ्ट किया हुआ आईना पीएम मोदी ने किया रिसीव, बघेल ने कहा-थैंक यू
Loading...

ये भी पढ़ें: धमतरी में सुरक्षा बल के साथ नक्सलियों की मुठभेड़, एक जवान शहीद 
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स     

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बीजापुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 5, 2019, 10:41 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...