28 साल की कानूनी लड़ाई के बाद बैंक कर्मचारी को आखिरकार मिला इंसाफ

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में जिला सहकारी बैंक के मृत कर्मचारी को आखिरकार 28 साल बाद हाई कोर्ट जस्टिस पी. सेम. कोशी के सिंगल बेंच से न्याय मिल ही गया.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: July 5, 2019, 12:12 PM IST
28 साल की कानूनी लड़ाई के बाद बैंक कर्मचारी को आखिरकार मिला इंसाफ
जिला सहकारी बैंक के मृत कर्मचारी को आखिरकार 28 साल बाद हाई कोर्ट जस्टिस पी. सेम. कोशी के सिंगल बेंच से न्याय मिल ही गया.
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: July 5, 2019, 12:12 PM IST
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में जिला सहकारी बैंक के मृत कर्मचारी को आखिरकार 28 साल बाद हाईकोर्ट जस्टिस पी. सेम. कोशी के सिंगल बेंच से न्याय मिल ही गया. 1991 से लड़ाई लड़ रहे बैंक कर्मचारी की मौत के बाद भी उसके परिजनों के द्वारा लड़ाई जारी रही. अब जाकर मृत बैंक कर्मचारी के परिजनों को न्याय मिलने से एक बड़ी राहत मिली है.

बता दें कि बिलासपुर जिला सहकारी बैंक में कर्मचारी रह चुके अच्छे लाल दुबे की शिकायत की गई थी, जिसके बाद उन्हें बैंक के द्वारा बर्खास्त कर दिया गया था. अपनी बर्खास्तगी को लेकर उन्होंने संबंधित हर एक विभाग में अपील की थी. हर जगह से उनकी अपील को खारिज कर दिया गया. इसके बाद उन्होंने हाई कोर्ट का शरण लिया.

बर्खास्तगी खारिज
हाई कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि इस बीच उनकी मृत्यु हो गई फिर भी परिवार वालों ने उनके इस न्याय की जंग को जारी रखा. जिसको हाई कोर्ट जस्टिस पी सेम कोशी के सिंगल बेंच ने बर्खास्त मृत कर्मचारी के पक्ष 28 साल बाद फैसला देते हुए आदेश दिया है कि बर्खास्तगी के बाद से उनके मिलने वाले सारे लाभ को उनके परिजनों को दिया जाए. साथ ही हाईकोर्ट ने उनकी बर्खास्तगी को भी निरस्त कर दिया है.

ये भी पढ़ें:- एक बकरी की तलाश ने उड़ाई पुलिस की नींद, BJP सांसद भी हैं परेशान 

ये भी पढ़ें- कोर्ट लॉकअप में ताला लगाना ही भूले सिपाही, आरोपी हुआ फरार 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बिलासपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 11:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...