Home /News /chhattisgarh /

छेड़खानी से तंग आकर नाबालिग ने खाया जहर, आरोपी पर अब तक नहीं दर्ज हुआ मामला

छेड़खानी से तंग आकर नाबालिग ने खाया जहर, आरोपी पर अब तक नहीं दर्ज हुआ मामला

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर के सीपत थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले उच्चभट्टी गांव में छेड़खानी के बाद नाहालिग ने गांववालों के प्रताड़ित किए जाने पर जहर खाकर जान देनी की कोशिश की.

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर के सीपत थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले उच्चभट्टी गांव में छेड़खानी के बाद नाहालिग ने गांववालों के प्रताड़ित किए जाने पर जहर खाकर जान देनी की कोशिश की.

12 दसम्बर को एक नाबालिक किशोरी को घर पर अकेला पाकर गांव के ही रसूखदार युवक के द्वारा छेड़खानी का मामला सामने आया था. बावजूद उसके सीपत पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया और उल्टे गांव के सरपंच और ग्रामीणों ने युवती के ऊपर ही आरोप लगाना शुरु कर दिया.

जिसको लेकर परेशान 16 वर्षीय नाबालिक किशोरी ने जहर खा लिया. उसकी गंभीर हालत को देखते हुए बिलासपुर के सिम्स अस्पताल में उसे भर्ती कराया गया है. जहां उसकी स्थिती में सामान्य सुधार बताया जा रहा है.

दरअसल पूरा मामला 12 दिसम्बर का है जब किशोरी के माता-पिता उसे घर पर छोड़ कर खेत में काम करने गए हुए थे. इस बीच गांव के रसूखदार प्रेमलाल उसे अकेला पाकर घर में घुसकर छेड़खानी करने की कोशिश करता है. किशोरी के विरोध करने पर प्रेमलाल ने उसकी लात घूसों से जमकर पिटाई की.

घटना में घायल लड़की को हफ्ते भर इलाज के लिए बिलासपुर के सिम्स में एडमिट कराया गया और जब परिजन मारपीट और छेड़खानी का मामला थाने में दर्ज कराने गए तो उनकी शिकायत नहीं सुनी गई.

अस्पताल से घर पहुंचे के बाद सरपंच और ग्रामीणों ने लडकी के ही दोषी करार दे दिया, जिससे क्षुब्ध किशोरी ने जान देने की ठान ली. परिजनों का आरोप है कि चुकी आरोपी युवक पैसे वाला है तो सरपंच और अन्य ग्रामीण भी उसी का साथ दे रहे हैं और पुलिस भी मामला दर्ज नहीं कर रही है.

उसके बाद लगातार लड़की को ही सरपंच और ग्रामीणों के द्वारा दोषी बता कर प्रताड़ित किया जा रहा था. जिसको लेकर परेशान किशोरी ने आज जहर खाकर अपनी जान लेनी चाही. परिजनों ने आनन-फानन में किशोरी को बिलासपुर के सिम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है.

Tags: Bilaspur news, Chhattisgarh news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर