Home /News /chhattisgarh /

रेत माफियाओं और प्रशासन के रवैये से खतरे में अरपा नदी का अस्तित्व

रेत माफियाओं और प्रशासन के रवैये से खतरे में अरपा नदी का अस्तित्व

रेत माफियाओं और प्रशासन के रवैये से खतरे में अरपा नदी का अस्तित्व

रेत माफियाओं और प्रशासन के रवैये से खतरे में अरपा नदी का अस्तित्व

अरपा नदी बचाओ अभियान के तहत के कई संगठन करीब पिछले 11 वर्षों से इस अरपा को फिर से जीवंत करने और उसे बचाने का प्रयास कर रहे है, पर शासन प्रशासन के बेपरवाह रवैये के कारण ये पनप नहीं पाई.

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले की जीवन दायिनी अरपा नदी का अस्तित्व खतरे में है. वर्षो से अरपा नदी बचाओ अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन रेत माफियाओं और प्रशासन के बेपरवाह रवैया के कारण अरपा की गोद आज भी सुनी है.

बिलासपुर जिले के पेंड्रा में स्थित जंहा अरपा के उद्गम होने का बोर्ड लगा है, सच में यहां से ही अरपा नदी निकली है जो छोटे-छोटे नदी नाले से होकर बिलासपुर तक पहुंची है. एक समय ऐसा था कि इस उद्गम स्थल से अरपा नदी निकलकर बिलासपुर पहुंचती थी और बिलासपुर में अरपा नदी लबालब भरी रहती थी, पर आज की स्थिति में अरपा नदी  पूरी तरह से सूख चुकी है. वहीं रेत माफियाओं भी खनिज विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से, नदी से खुलेआम रेत का उत्खनन कर रहे हैं.

अरपा बचाओ अभियान के तहत के कई संगठन भी पिछले 11 वर्षों से इस अरपा को फिर से जीवंत करने और उसे बचाने का प्रयास कर रहे है, पर शासन प्रशासन के बेपरवाह रवैये के कारण ये पनप नहीं पाई. वहीं बिलासपुर विधानसभा के नवनिर्वाचित विधायक शैलेश पांडे ने कहा कि यह बड़े चिंतन का विषय है कि कलकल करती जीवनदायिनी अरपा का अस्तित्व खतरे में है, पहले भी इसके लिए कई प्रयास किए गए पर सत्ता न होने के कारण आज तक कुछ नहीं हो सका, अब जब सत्ता हमारी है तो निश्चित ही जीवनदायिनी अरपा को बचाया जाएगा.

यह भी पढ़ें-  बिलासपुर: महीनों से प्यासी शहर की अरपा नदी में हुआ जल प्रवाह

यह भी देखें- अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है बिलासपुर की अरपा नदी

Tags: Bilaspur district, Bilaspur news, Chhattisagrh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर