छत्तीसगढ़: अचानकमार टाइगर रिजर्व के कैमरे में एक बार फिर कैद हुआ Black Panther, देखें तस्वीरें
Bilaspur News in Hindi

छत्तीसगढ़: अचानकमार टाइगर रिजर्व के कैमरे में एक बार फिर कैद हुआ Black Panther, देखें तस्वीरें
टाइगर रिजर्व प्रबंधन के मुताबिक, 25 मार्च से 25 अप्रैल के बीच ब्लैक पैंथर की कई और तस्वीरें भी सामने आई थीं.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के मुंगेली (Mungeli) जिले के अंतर्गत अचानकमार टाइगर रिजर्व (Achanakmar Tiger Reserve) क्षेत्र में लगे कैमरों ने एक बार फिर यहां ब्लैक पैंथर की तस्वीरें कैद की हैं.

  • Share this:
बिलासपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के मुंगेली (Mungeli) जिले के अंतर्गत अचानकमार टाइगर रिजर्व (Achanakmar Tiger Reserve) क्षेत्र में लगे कैमरों ने एक बार फिर यहां ब्लैक पैंथर की तस्वीरें कैद की हैं. टाइगर रिजर्व प्रबंधन के मुताबिक, 25 मार्च से 25 अप्रैल के बीच ब्लैक पैंथर की कई और तस्वीरें भी सामने आई थीं.






2017 में भी दिखा था ब्लैक पैंथर


914.017 वर्ग किलोमीटर में फैले अचानकमार टाइगर रिजर्व की मुख्य वन संरक्षक एस गुप्ता ने कहा कि बाघ की ट्रैकिंग के लिए ट्रैप कैमरा 25 मार्च से 25 अप्रैल तक लगाए गए थे. यह ब्लैक पैंथर्स दुर्लभ हैं. उन्होंने बताया कि इस ब्लैक पैंथर को 2017 में भी देखा गया था. हमें पता चल जाएगा कि इस क्षेत्र में शावक या अन्य पैंथर हैं या नहीं. टाइगर रिजर्व में पेट्रोलिंग और ट्रैकिंग भी की जाएगी.



शिकारियों को पकड़ने गई वन विभाग की टीम पर हमला
बता दें कि अचानकमार टाइगर रिजर्व में अब बाघों समेत अन्य संरक्षित वन्य प्राणियों के जीवन पर खतरा मंडराने लगा है. यहां के बाघों व अन्य वन्य जीव शिकारियों और वन्य जीवों की तस्करी करने वालों के निशाने पर हैं. टाइगर रिजर्व के जंगलों में बाघों की गिनती के लिए ट्रैप कैमरे लगाए गए हैं. इन्हीं कैमरों में रात के समय धनुष बाण और हथियार लिए कुछ शिकारी दिखे. इन संदिग्ध शिकारियों को पकड़ने के लिए 2 मई को सुरही वन परिक्षेत्र के रेंजर संदीप सिंह वन विभाग के 21 अन्य लोगों के साथ निवासखार गांव गए.

रेंजर संदीप सिंह ने बताया कि वहां सदिग्धों की पहचान की गई और उनके घरों की तलाशी ली गई. इसी दौरान ग्रामीण आक्रोशित हो गए और वन विभाग की टीम को बंधक बनाकर उनके साथ मारपीट की गई. उनके मोबाइलफोन तोड़ दिए गए. घरों से बरामद किए गए संदिग्ध वस्तुओं को छिन लिया गया. उनकी टीम पर जानलेवा हमला किया गया. ये सब राजनीतिक संरक्षण में किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ में फिलहाल नहीं शुरू होगी अंतर्राज्यीय बस सेवा, सरकार ने लिखा पत्र

क्या मजदूरों की 'घर वापसी' से बढ़ रहा छत्तीसगढ़ में COVID-19 का खतरा?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading