दूसरी पत्नी की संतान भी अनुकंपा नियुक्ति की हकदार: छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने कहा है कि मृतक रेलवे सेवक की दूसरी पत्नी से उत्पन्न संतान अनुकंपा नियुक्ति का विशेषाधिकार पाने की हकदार है.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: July 2, 2019, 4:23 PM IST
दूसरी पत्नी की संतान भी अनुकंपा नियुक्ति की हकदार: छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट
अनुकंपा नियुक्ति को लेकर छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने एक बड़ा आदेश दिया है.
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: July 2, 2019, 4:23 PM IST
छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने अनुकंपा नियुक्ति के मामले में एक बड़ा और अहम आदेश दिया है. एक मामले में कोर्ट ने कहा है कि मृतक रेलवे सेवक की दूसरी पत्नी से उत्पन्न संतान अनुकंपा नियुक्ति का विशेषाधिकार पाने की हकदार है.

दरअसल बिलासपुर के आरटीएस कॉलोनी में रहने वाली ऋचा लामा के पिता गणेश लामा एसईसीआर में कार्यरत थे. सेवा के दौरान जनवरी 2015 को उनकी मौत हो गई थी. ऋचा ने विभाग के समक्ष अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवेदन प्रस्तुत किया, लेकिन इसे 4 अप्रैल 2017 को इस आधार पर निरस्त कर दिया गया कि वह मृतक की दूसरी पत्नी की बेटी है. इस कारण से वह अनुकंपा नियुक्ति की हकदार नहीं है.

इस मामले में कोर्ट ने दिया आदेश

दूसरी पत्नी की बेटी कहकर कोर्ट ने ऋचा को अनुकंपा नियुक्ति का हकदार नहीं बताया था. कोर्ट के इस आदेश के खिलाफ ऋचा ने केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण के समक्ष मामला प्रस्तुत किया. अधिकरण ने 22 दिसंबर 2017 को रेलवे के आदेश को निरस्त करते हुए ऋचा के आवेदन पर नियमों के तहत 60 दिनों के भीतर विचार कर निर्णय लेने के निर्देश दिए थे.

एसईसीआर ने इसके खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका प्रस्तुत किया था. हाईकोर्ट चीफ जस्टिस पीआर रामचंद्र मेनन के डिवीजन बेंच में इस पर सुनवाई हुई. रेलवे की तरफ से तर्क प्रस्तुत किया गया. तर्क में जनवरी 1992 को जारी सर्कुलर का हवाला देते हुए कहा गया कि दूसरी पत्नी की बेटी होने के आधार पर वह अनुकंपा नियुक्ति की हकदार नहीं है. अधिकरण का आदेश गलत है, लिहाजा इसे निरस्त किया जाए.

वहीं ऋचा की तरफ से पैरवी कर रहे एडवोकेट एवी श्रीधर ने बताया कि बाम्बे हाईकोर्ट ने एक मामले में दिए गए आदेश में इस सर्कुलर को निरस्त कर दिया था. केंद्र सरकार ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार के विरुद्ध वीआर त्रिपाठी के मामले में बाम्बे हाईकोर्ट द्वारा दिए गए आदेश में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया था. सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने ये कहते हुए एसईसीआर की याचिका खारिज कर दी है कि मृत रेलवे कर्मचारी की दूसरी पत्नी के बच्चे को भी अनुकंपा नियुक्ति प्राप्त करने का विशेषाधिकार है.

ये भी पढ़ें:
Loading...

रायपुर निगम के सामान्य सभा की बैठक में हंगामा, बीजेपी पार्षद ने सभागृह में फेंका कीचड़ 

12 घंटों से कई इलाकों में हो रही लगातार बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बिलासपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 3:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...