Home /News /chhattisgarh /

पंडाल उखाड़ने पहुंची थी RPF, कलेक्टर ने रोका, बोले-जनता के आंदोलन को रोक नहीं सकते

पंडाल उखाड़ने पहुंची थी RPF, कलेक्टर ने रोका, बोले-जनता के आंदोलन को रोक नहीं सकते

Bilaspur News: बिलासपुर रेल जोन मुख्यालय के सामने धरना देने को लेकर आमजनों से हुआ RPF का विवाद, डीसी ने सुलझाया.

Bilaspur News: बिलासपुर रेल जोन मुख्यालय के सामने धरना देने को लेकर आमजनों से हुआ RPF का विवाद, डीसी ने सुलझाया.

Bilaspur News Update: छत्तीसगढ़ के छोटे-छोटे रेलवे स्टेशनों पर ट्रेनों का स्टॉपेज बढ़ाने के लिए जब आम लोगों ने रेलवे के विरोध का लोकतांत्रिक तरीका अख्तियार किया, तो रेल प्रशासन ने पब्लिक की आवाज दबाने की कोशिश की. लेकिन जिले के कलेक्टर ने लोकतंत्र में अपनी मांगों के लिए आंदोलन के तरीके को जायज ठहराते हुए रेलवे सुरक्षा बल को धरना पंडाल उखाड़ने से रोक दिया. पढ़िये ये दिलचस्प रिपोर्ट...

अधिक पढ़ें ...

    बिलासपुर. लोकतंत्र में जनता ही सर्वोपरि होती है. आम आदमी की आवाज दबाई नहीं जा सकती, ये बातें आपने खूब सुनी होंगी. लेकिन छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में बीते दिनों ऐसा ही एक नजारा दिखा. यहां ट्रेनों का स्टॉपेज बढ़ाने और मंथली सीजन टिकट की सुविधा शुरू करने के लिए आम लोगों का संगठन रेलवे जोन मुख्यालय के सामने धरने पर बैठा था. रेल प्रशासन ने इन लोगों की मांग सुने बिना ही धरना खत्म कराने का प्रयास किया. रेलवे के अधिकारियों ने इसके लिए आरपीएफ के जवानों को भेजा, ताकि धरनास्थल से पब्लिक का पंडाल उखाड़ा जा सके. लेकिन आंदोलन कर रहे लोगों ने इसकी शिकायत स्थानीय जिला प्रशासन से कर दी. इस पर बिलासपुर कलेक्टर ने आरपीएफ को धरनास्थल से पंडाल उखाड़ने से रोक दिया.

    बिलासपुर के कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने लोकतांत्रिक आंदोलन का समर्थन किया. साथ ही कहा कि लोकतांत्रिक तरीके से किए जा रहे आंदोलन को रोका नहीं जा सकता. जिला कलेक्टर के हस्तक्षेप के बाद आम लोगों को धरनास्थल से हटाने का रेलवे का प्रयास नाकाम साबित हुआ. बिलासपुर से प्रकाशित हिंदी अखबार हरिभूमि की रिपोर्ट के मुताबिक, छात्र युवा नागरिक रेलवे जोन संघर्ष समिति दरअसल लंबे अर्से से छोटे स्टेशनों पर ट्रेनों का स्टॉपेज बढ़ाने और एमएसटी की सुविधा शुरू करने की मांग कर रही है.

    टेंट लगाने को लेकर शुरू हुआ विवाद

    रेलवे प्रशासन ने जब संघर्ष समिति की मांगों पर ध्यान नहीं दिया, तो बीते दिनों संगठन के सदस्य रेल जोन मुख्यालय के सामने धरना देने पहुंचे. संघर्ष समिति ने जब बिलासपुर जोन मुख्यालय के सामने धरना देने के लिए टेंट लगाना शुरू किया, तो आरपीएफ ने इसका विरोध किया. इस पर संघर्ष समिति के साथ रेल सुरक्षा बल के अधिकारियों की ठन गई. समिति के सदस्यों ने एसडीएम और पुलिस-प्रशासन को सूचना देने का हवाला दिया, लेकिन आरपीएफ टेंट नहीं लगाने देने पर अड़ी रही. इसके बाद समिति ने बिलासपुर के जिला कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर से गुहार लगाई.

    डीसी ने सुलझाया विवाद

    संघर्ष समिति की मांगों और उनके धरना के बारे में जानकारी मिलने के बाद डीसी डॉ. सारांश मित्तर ने फौरन रेल महाप्रबंधक से संपर्क किया. उन्होंने रेलवे के अधिकारियों से साफ कहा कि सार्वजनिक स्थान पर लोकतांत्रिक तरीके से किए जा रहे विरोध प्रदर्शन को रोका नहीं जा सकता. उन्होंने छात्र युवा नागरिक रेलवे जोन संघर्ष समिति के धरने को सही ठहराया और आरपीएफ को टेंट उखाड़ने से रोक दिया. रेल जीएम और डीसी के बीच बातचीत के बाद यह विवाद शांत हुआ.

    Tags: Bilaspur news, People protest

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर