व्याख्याता पद पर नियुक्ति के लिए दायर याचिका खारिज

बीटेक और एमटेक डिग्रीधारकों को सहायक प्राध्यापक और व्याख्याता के पद पर नियुक्ति नहीं दिए जाने के खिलाफ पेश सभी याचिकाओं को पद रिक्त नहीं होने के कारण खारिज कर दिया है.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: September 4, 2018, 2:16 PM IST
व्याख्याता पद पर नियुक्ति के लिए दायर याचिका खारिज
व्याख्याता पद पर नियुक्ति के लिए दायर याचिका खारिज
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: September 4, 2018, 2:16 PM IST
छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने प्रदेश के इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेज में बीटेक और एमटेक डिग्रीधारकों को सहायक प्राध्यापक और व्याख्याता के पद पर नियुक्ति नहीं दिए जाने के खिलाफ पेश सभी याचिकाओं को पद रिक्त नहीं होने के कारण खारिज कर दिया है.

दरअसल, छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग (पीएससी) ने साल 2015 में प्रदेश की इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में लेक्चरर के रिक्त पदों पर नियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी किया था. शैक्षणिक योग्यता के रूप में संबंधित विषय में प्रथम श्रेणी में बीई, बीटेक/एमटेक की डिग्री अनिवार्य थी. इसके लिए आरती वर्मा, मुक्तेश्वरी साहू, गितेश कुमार, पूजा चंद्राकर, सौरभ सिंह समेत कई लोगों ने आवेदन दिया था, लेकिन पीएससी ने सभी का आवेदन इस आधार पर निरस्त कर दिया था कि इनके पास विज्ञापन की शर्तों के मुताबिक शैक्षणिक योग्यता नहीं थी.

इसके खिलाफ हाईकोर्ट में 27 से ज्यादा अभ्यर्थियों ने याचिका लगाई थी. मामले पर सुनवाई के दौरान सिंगल बेंच ने याचिकाकर्ताओं के नामों के साथ ही उनकी शैक्षणिक योग्यता का चार्ट तैयार किया. इसमें कोर्ट ने पाया कि उनके पास बीई, बीटेक/एमटेक की डिग्री तो थी, लेकिन संबंधित विषयों में न होकर इलेक्ट्रिक, इलेक्ट्रॉनिक्स और इन्फर्मेशन या कंप्यूटर टेक्नॉलॉजी में थी. लिहाजा, हाईकोर्ट ने जुलाई 2017 में इसी आधार पर याचिकाएं खारिज कर दी थी. इसके बाद अभ्यर्थियों ने कोर्ट में फिर से अपील की थी.

लिहाजा, मामले पर चीफ जस्टिस अजय कुमार त्रिपाठी और जस्टिस संजय अग्रवाल की बेंच में सुनवाई हुई. हाईकोर्ट ने सिंगल बेंच के फैसले को सही ठहराते हुए सभी अभ्यर्थियों की अपील को खारिज कर दिया.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर