मैट्रिमोनियल साइट में झांसा देकर ठगा 10 लाख, फिर गुड़गांव के हाेटल में किया रेप

याचिका पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने पुलिस को युवती द्वारा दिए गए सभी दस्तावेजों को शामिल करते हुए पूरक चालान प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: August 1, 2019, 4:27 PM IST
मैट्रिमोनियल साइट में झांसा देकर ठगा 10 लाख, फिर गुड़गांव के हाेटल में किया रेप
लड़की ने आरोप लगाया था कि पुलिस ने सभी दस्तावेज कोर्ट में पेश नहीं किए है.
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: August 1, 2019, 4:27 PM IST
मैट्रिमोनियल साइट के जरिए लड़कियों को फंसाकर रेप करने का एक मामला सामने आया है. अब पीड़ित युवती ने हाईकोर्ट में अर्जी लगाई है. हाईकोर्ट की सिंगल बैंच ने पुलिस को युवती द्वारा दिए गए सभी दस्तावेजों को शामिल करते हुए पूरक चालान प्रस्तुत करने के निर्देश दे दिए है.

ये है पूरा मामला

बता दें कि दिल्ली में रहने वाले राहुल चौहान ने मैट्रिमोनियल साइट के जरिए दुर्ग के एक निजी बैंक में काम करने वाली युवती से परिचय हुआ. लड़की के मुताबिक आरोपी उसे शादी का झांसा देता रहा. युवती ने उसकी बातों में आकर उसे अपना इंटरनेट बैंकिंग का पासवर्ड भी दे दिया. इसका उपयोग कर उसने महंगी घड़ी सहित कई सामान खरीदे लिए. लड़की के मुताबिक मां का इलाज करवाने के बहाने उसने रूपए निकाले.

इस तरह युवती के एकाउंट से उसने कुल साढ़े 10 लाख रुपए निकाल लिए. इसके बाद फरवरी मेंं उसने युवती को दिल्ली बुलाया. लड़की का आरोप है कि आरोपी ने गुड़गांव के होटल में युवती की मर्जी के खिलाफ उसके साथ रेप किया. युवती ने वापस आने के बाद दुर्ग के सिटी कोतवाली थाने में उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई.

fraud by matrimonial site, fraud in matrimonial site, online fraud, fraud and rape, fraud and girl rape, fraud case in highcourt, rape case in high court, bilaspur, chhattisgarh, मैटिमोनियल साइट में धोखा, मैटिमोनियल साइट में फ्रॉड, फ्रॉड के बाद रेप, लड़की का रेप, झांसा देकर रेप, बिलासपुर, छत्तीसगढ़, ऑनलाइन फ्रॉड
लड़की का आरोप, शादी का झांसा देकर किया रेप. (Demo pic)


कोर्ट ने सुनाया ये फैसला

पुलिस ने आईपीसी की धारा 420 और 376 के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया था. जांच पूरी होने के बाद पुलिस ने कोर्ट में चालान पेश किया. युवती को चालान की कॉपी मिली तो उसने देखा कि पुलिस ने कई जरूरी दस्तावेज चालान में शामिल ही नहीं किए है. इसमे एकाउंट से रुपए निकालने का विवरण, उनके बीच होने वाली चैटिंग सहित अन्य कई दस्तावेज चालान में थे ही नहीं. युवती के मुताबिक सभी दस्तावेज उसने पुलिस को सौंपा था.
Loading...

इसके बाद युवती ने एडवाेकेट बीपी सिंह के जरिए हाईकोर्ट में रिट पिटीशन क्रिमिनल प्रस्तुत कर पुलिस पर आरोपी को बचाने का प्रयास करने और जानबूझकर चालान में कई जरूरी दस्तावेज शामिल नहीं करने का आरोप लगाया था. याचिका पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने पुलिस को युवती द्वारा दिए गए सभी दस्तावेजों को शामिल करते हुए पूरक चालान प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है.

ये भी पढ़ें: 

PHOTOS: सुकमा में बाढ़ का कहर, ऐसे लोगों को रेस्क्यू कर रहे जवान 

बारिश में छत्तीसगढ़ का चित्रकोट बन गया ''नियाग्रा'', सालों बाद दिखता है ऐसा खूबसूरत नजारा 

 
First published: August 1, 2019, 4:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...