एनटीपीसी में नौकरी की मांग कर रहे भूविस्‍थापित गिरफ्तार

छत्‍तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में सीपत थाना क्षेत्र की पुलिस ने सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और शांति भंग करने के आरोप में एनटीपीसी में नौकरी की मांग कर रहे भूविस्थापितों को गिरफ्तार किया है.

Sanjay Manikpuri | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: January 14, 2018, 6:08 PM IST
एनटीपीसी में नौकरी की मांग कर रहे भूविस्‍थापित गिरफ्तार
पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए भू-विस्‍थापित.
Sanjay Manikpuri | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: January 14, 2018, 6:08 PM IST
छत्‍तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में सीपत थाना क्षेत्र की पुलिस ने सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और शांति भंग करने के आरोप में एनटीपीसी में नौकरी की मांग कर रहे भूविस्थापितों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार लोगों में पुरुषों के साथ महिलाएं भी शामिल हैं.

दरअसल एनटीपीसी ने कौड़िया गांव की जमीन उसके मालिकों को मुआवजा और नौकरी देने के नाम पर अधिग्रहित की थी. जमीन लेने के बाद एनटीपीसी प्रबंधन ने जमीन मालिकों को अब तक नौकरी नहीं दी. विस्थापित नौकरी की मांग को लेकर जिला प्रशासन और जनप्रतिनिधियों से सैकड़ों बार गुहार लगा चुके हैं, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. वहीं चार से अधिक बार त्रिपक्षीय वार्ता हुई पर कभी निष्कर्ष नहीं निकल सका.

परेशान भूविस्थापितों ने नौकरी नहीं मिलने से परेशान होकर एनटीपीसी के सामने महीनों धरना दिया. जिला प्रशासन ने आश्वासन के बाद धरना समाप्त हुआ पर समय बीतने के बाद भी ध्यान नहीं दिया गया. वहीं शनिवार को भूविस्थापितों ने नौकरी की मांग को लेकर राखड़ डेम के पास प्रदर्शन कर वहां काम रोक दिया. इसके बाद एनटीपीसी प्रबंधन ने भूविस्थापितों को सीपत पुलिस के हवाले कर दिया.

प्रशासन ने भूविस्थापितों को नौकरी दिलाने के लिए तो आज तक कोई पहल नहीं की पर प्रबंधन की महज मोबाइल पर सूचना मिलते ही निर्दोष भूविस्थापितों पर प्रकरण दर्ज करने में जरा भी देरी नहीं की. इससे साफ झलकता है कि प्रशासन गरीबों की सहायता के लिए नहीं है. वहीं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने भूविस्थापितों को न्याय दिलाने की बात कही है.
News18 Hindi पर Jharkhand Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Chhattisgarh News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर