लाइव टीवी

पुलिस आरक्षक आत्महत्या मामला: HC ने दोषियों के खिलाफ FIR दर्ज कर कार्रवाई करने का दिया आदेश

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: September 15, 2019, 1:07 PM IST
पुलिस आरक्षक आत्महत्या मामला: HC ने दोषियों के खिलाफ FIR दर्ज कर कार्रवाई करने का दिया आदेश
पुलिस आरक्षक के आत्महत्या मामले में बलौदा बाजार पुलिस को FIR दर्ज कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश (फाइल फोटो)

चौकी प्रभारी की प्रताड़ना से परेशान होकर पुलिस आरक्षक के आत्महत्या मामले में HC के सिंगल बेंच ने सुनवाई के बाद बलौदा बाजार पुलिस को FIR दर्ज कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दिया है.

  • Share this:
बिलासपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) हाईकोर्ट के सिंगल बेंच ने चौकी प्रभारी की प्रताड़ना से परेशान होकर पुलिस आरक्षक (Police Constable) के आत्महत्या मामले में बलौदा बाजार पुलिस को FIR दर्ज कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दिया है. दरअसल, बलौदा बाजार (Baloda Bazar) जिले के गिधपुरी पुलिस चौकी में पदस्थ पुलिस आरक्षक ज्ञान साहू ने अपने ऊपर पेट्रोल डालकर 23 मार्च 2019 को आग लगाकर जान देने की कोशिश की थी. कुछ दिनों बाद रायपुर में इलाज के दौरान आरक्षक की जान चली गई थी. इस मामले में मृत आरक्षक की पत्नी ने अपने पति के मौत के पीछे उसके अधिकारियों के हाथ होने की बात कहकर हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी.

ये है पूरा मामला

बलौदा बाजार जिले के गिधपुरी पुलिस चौकी में पदस्थ आरक्षक ज्ञान साहू बीते 23 मार्च 2019 को स्टाफ की गणना के बाद रात 8.30 बजे गिधपुरी चौकी प्रभारी आरएस राजपूत के केबिन में गया था. 15 से 20 मिनट तक किसी मामले में बहस करने के बाद वह गुस्से में बाहर निकला और दूसरे कमरे में रखे पेट्रोल को अपने ऊपर डालकर आग लगा ली. आग में बुरी तरह झुलस गए आरक्षक को रायपुर स्थित हॉस्पिटल ले जाया गया. इलाज के दौरान ही आरक्षक का बयान लिया गया, जिसमें उसने चौकी प्रभारी राजपूत द्वारा प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था. हालांकि उसके कुछ ही दिन बाद आरक्षक की मौत हो गई थी.

हाईकोर्ट-high court
मृत आरक्षक की पत्नी रोशनी साहू ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी.


आरक्षक के मृत्यु पूर्व बयान दर्ज कराए जाने के बावजूद कार्रवाई नहीं होने पर पत्नी रोशनी साहू ने बलौदा बाजार एसपी, मानवाधिकार (Human Rights) और नगरी प्रशासन मंत्री से इसकी शिकायत की. इसके बाद भी न तो दोषियों के ऊपर कार्रवाई हुई और ना ही याचिकाकर्ता रोशनी को अनुकम्पा नियुक्ति मिली. इसे लेकर मृत आरक्षक की पत्नी रोशनी साहू ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी.

ये भी पढ़ें:- राशन कार्ड का सिस्टम हुआ ऑनलाइन, अब कौन बनना चाहेगी 'बीवी नंबर 02'

ये भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़ की आदिवासी संस्कृति को पहचान देने होगा नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बिलासपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 15, 2019, 12:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...