लाइव टीवी

न्यायिक अधिकारियों को देनी होगी प्रॉपर्टी की जानकारी, हाईकोर्ट का आदेश

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: January 14, 2020, 3:40 PM IST
न्यायिक अधिकारियों को देनी होगी प्रॉपर्टी की जानकारी, हाईकोर्ट का आदेश
कोर्ट के निर्देश के मुताबिक 31 मार्च 2019 तक की चल-अचल संपत्ति जानकारी अधिकारियों को देने के निर्देश दिए हैं. (Demo Pic)

बता दें कि 2013 में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस यतींद्र सिंह ने इस परंपरा की शुरुआत की थी.

  • Share this:
बिलासपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की बिलासपुर हाईकोर्ट (Bilaspur High Court) ने एक बड़ा फैसला सुनाया है. हाईकोर्ट ने सभी  न्यायिक अधिकारियों (Judicial officers) से उनकी संपत्ति की जानकारी मांगी है. अधिकारियों को अब जिला एवं सत्र न्यायाधीश के जरिए अभी सभी प्रॉपर्टी (Property) की जानकारी देनी होगी. कोर्ट के निर्देश के मुताबिक 31 मार्च 2019 तक की चल-अचल संपत्ति जानकारी अधिकारियों को देने के निर्देश दिए हैं. मालूम हो कि प्रदेश में वर्तमान में 448 न्यायिक अधिकारी कार्यरत हैं. इसमें 88 प्रतिनियुक्ति पर हाईकोर्ट में अधिकारी हैं. बताया जा रहा है कि सभी जिलों के मजिस्ट्रेटों को HC ने मेमो के साथ ही निर्धारित प्रोफार्मा भी भेज दिया गया है.

संपत्ति की देनी होगी जानकारी

मिली जानकारी के मुताबिक, हाईकोर्ट ने प्रदेश के सभी न्यायिक अधिकारियों से चल-अचल संपत्ति की जानकारी देने कहा है. हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार विजिलेंस ने सभी जिला एवं सत्र न्यायधीशों को मेमो जारी कर उनके जिले में पदस्थ न्यायिक अधिकारियों को प्रोफार्मा उपलब्ध करवाने और उनसे मिली जानकारी को वेरिफाई करने के बाद ईमेल के साथ ही रजिस्टर्ड डाक के जरिए भेजने के लिए कहा है. इस जानकारी को 31 मार्च 2019 तक का 28 फरवरी 2020 तक उपलब्ध करानी होगी.

आपको बता दें कि प्रदेश में वर्तमान में 448 न्यायिक अधिकारी कार्यरत है, जिसमे 88 प्रतिनियुक्ति पर हाईकोर्ट में , राज्य एवं जिला विधिक कार्यालयों में पदस्थ है. बता दें कि 2013 में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस यतींद्र सिंह ने इस परंपरा की शुरुआत की थी. दरअसल, तत्कालीन चीफ जस्टिस यतींद्र सिंह ने ज्वाइन करने के कुछ ही दिनों के बाद हाईकोर्ट के सभी जजों के साथ ही न्यायिक अधिकारियों के लिए संपत्ति की घोषणा अनिवार्य कर दिया था. इसके बाद हाईकोर्ट के अधिकांश जजों के साथ ही न्यायिक अधिकारियों ने भी अपनी संपत्ति की घोषणा की थी, लेकिन करीब 5 सालों से अपडेट नहीं किया गया है.

 

ये भी पढ़ें: 

BSP ने CAA-NRC का किया विरोध, कानून को वापस लेने की मांग की बड़े भाई ने किया सरेंडर, बदला लेने नक्सलियों ने कर दी छोटे भाई की हत्या! 

छेड़छाड़ के आरोप में 'बाबा' गिरफ्तार, ईश्वर दर्शन के नाम पर महिलाओं से करता था ये हरकत  

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बिलासपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 3:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर