Home /News /chhattisgarh /

नाबालिग को हाईकोर्ट से मिली अबॉर्शन की अनुमति, भ्रूण का DNA सुरक्षित रखने के निर्देश

नाबालिग को हाईकोर्ट से मिली अबॉर्शन की अनुमति, भ्रूण का DNA सुरक्षित रखने के निर्देश

कर्मचारी की मौत के बाद परिवार वालों को लड़ी कानूनी लड़ाई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कर्मचारी की मौत के बाद परिवार वालों को लड़ी कानूनी लड़ाई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोर्ट ने एमटीपी एक्ट (MTP Act) के तहत ये फैसला लिया है. अनुमति मिलने के बाद एक्सपर्ट डॉक्टर्स (Expert Doctors) की टीम नाबालिग का गर्भपात करेगी.

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने दुष्कर्म (Rape) पीड़ित नालाबिग किशोरी (Minor Rape Victim) को गर्भपात (Abortion) की अनुमति दे दी है. कोर्ट ने एमटीपी एक्ट (MTP Act) के तहत ये फैसला लिया है. कोर्ट से अनुमति मिलने के बाद अब महासमुंद के एक्सपर्ट डॉक्टर्स (Expert Doctors) की टीम नालाबिग का अबॉर्शन करेगी. इसके साथ ही कोर्ट ने भ्रूण का डीएनए सुरक्षित रखने का भी निर्देश दिया है. बता दें कि महासमुंद (Mahasamund) की रहने वाली एक नाबालिग लड़की को घर से पास पड़ोस में रहने वाले एक शख्स ने अपने हवस का शिकार बनाया था. इसके बाद लड़की गर्भवति हो गई थी. फिर किशोरी ने अपने मां के जरिए कोर्ट में एक याचिका दायर कर अबॉर्शन की अनुमति मांगी थी.

कोर्ट ने दिया ये अहम निर्देश:

मिली जानकारी के मुताबिक महासमुंद की रहने वाली 17 वर्षीय किशोरी ने अपनी मां के जरिए हाईकोर्ट में याचिका दायर कर गर्भपात की अनुमति मांगी थी. नाबालिग की इस याचिका पर कोर्ट ने एक अहम फैसला सुनाया है. हाईकोर्ट ने MTP एक्ट (Medical Termination of Pregnancy Act) के तहत गर्भ के 20 सप्ताह से कम 17 सप्ताह 1 दिन होने के कारण किशोरी को गर्भपात करवाने की अनुमति दे दी है. किशोरी के गर्भपात के लिए हाईकोर्ट ने जिला अस्पताल महासमुंद में एक्पर्ट सीनियर डॉक्टरों के द्वारा किये जाने का निर्देश दिया है.

chhattisgarh- bilaspur- high court- chhattisgarh high court- chhattisgarh high court decision on rape case- minor rape case- abortion of a minor rape victim girl- abortion of minor rape victim- chhattisgarh highcourt rape case- Medical Termination of Pregnancy Act- छत्तीसगढ़- बिलासपुर- छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट- रेप मामले में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का फैसला- नाबालिग रेप पीड़िता, नाबालिग रेप पीड़ित लड़की का अबॉर्शन. रेप पीड़ित लड़की का अबॉर्शन- रेप पीड़ित लड़की का गर्भपात
कोर्ट ने एमटीपी एक्ट (MTP Act) के तहत ये फैसला लिया है. भ्रूण का डीएनए सुरक्षित रखने के निर्देश दिए है. (Demo pic).


 भ्रूण का डीएनए रखा जाएगा सुरक्षित:

इस मामले में कोर्ट ने भ्रूण के डीएनए को भी सुरक्षित रखने के निर्देश भी दिए है. दरअसल, महासमुंद जिले की रहने वाली किशोरी का पड़ोस में रहने वाले विवाहित कमलेश ने कई बार दुष्कर्म किया था. बाद में किशोरी को शारिरिक समस्या आने के बाद उसकी मां ने उसका चेकअप करवाया. इसमे पता चला कि किशोरी का ग्रभ ठहर गया है. इसके बाद परिजनों ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करवाया. पुलिस ने आरोपी के खिलाफ पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया. इधर, किशोरी की ने गर्भ ठहरने पर मां के माध्यम से गर्भपात कराने की अनुमति के लिए हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी जिसे हाईकोर्ट ने मंजूर करते हुए गर्भपात करवाने की अनुमति दे दिया है.

ये भी पढ़ें: 

शादी का प्रपोजल युवती ने किया रिजेक्ट, सिरफिरे आशिक ने कर दी बेरहमी से हत्या 

शर्मनाक: बिलासपुर में दिव्यांग युवती से गैंगरेप, गिरफ्तार हुए 5 आरोपी  

 

Tags: Bilaspur district, Bilaspur news, Chhattisgarh news, Minor girl rape, Rape, Rape convict

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर