लापता छात्रा की मिली लाश, सुसाइड नोट में लिखा: नहीं आती अंग्रेजी-गणित, समझाने वाला कोई नहीं
Bilaspur News in Hindi

लापता छात्रा की मिली लाश, सुसाइड नोट में लिखा: नहीं आती अंग्रेजी-गणित, समझाने वाला कोई नहीं
पुलिस ने आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है. (प्रतीकात्मक फोटो)

फिलहाल पुलिस ने छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है. सभी पहलुओं पर जांच करने की बात पुलिस कर रही है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बिलासपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बिलासपुर (Bilaspur) जिले में पिछले तीन दिनों से लापता (Missing Girl) एक छात्रा की नदी में तैरती लाश (Dead Body) मिली है. पुलिस के मुताबिक पढ़ाई के दबाव में आकर 12 साल की ने खुदकुशी (Suicide) कर ली है. छात्रा के नोटबुक में एक नोट (Suicide Note) मिला है. माना जा रहा है कि खुदकुशी करने से पहले छात्रा ने खुद ये लिखा है. सुसाइड नोट में पढ़ाई का दबाव और पढ़ाई में मदद की कमी का जिक्र है. फिलहाल पुलिस (Police) ने छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है. सभी पहलुओं पर जांच करने की बात पुलिस कर रही है.

ये है पूरा घटना 

दरअसल, पूरी घटना कोटा थाना क्षेत्र के ग्राम नरौतीकापा का है. नरौतीकापा निवासी कक्षा 5वीं की छात्रा दीपिका 23 फरवरी की शाम तकरीबन 5 बजे से घर से लापता हो गई थी. छात्रा ने घर से गायब होने से पहले एक चिट्ठी में खुद को न ढूंढने की बात परिजनों से की थी. परिजन उसकी तलाश में जुटे हुए थे पर कुछ पता नहीं चला. इसके बाद 25 फरवरी को कोटा थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई. रिपोर्ट पर पुलिस ने दीपिका की खोजबीन शुरू कर दी. बुधवार शाम दीपिका का शव घर के पास ही खड़हरी तालाब में ग्रामीणों ने देखा.



मामले की जानकारी गांव के विजय कौशिक ने मृतिका के परिजनों को दी. सूचना पर दीपिका के पिता गोवर्धन मरावी तालाब पहुंचे और गांव के रामअवतार मरावी की मदद से शव को तालाब से बाहर निकाला. फिर घटना की सूचना परिजनों ने पुलिस को दी. सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच शव का पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया. पुलिस ने छात्रा द्वारा लिखा गया चिट्ठी जब्त कर मामले की जांच सहज कर दी है.



पुलिस मान रही है कि खुदकुशी करने से पहले छात्रा ने ये सुसाइड नोट लिखा है.


सुसाइड नोट में लिखी ये बात

घर से गायब होने से पहले दीपिका के स्कूल कॉपी में एक चिट्ठी पाया गया, जिसमें लिखा गया है कि उसे गणित और अंग्रेजी पढ़ने में कठिनाई आ रही है. ना तो उसे स्कूल में ठीक से पढ़ाया जाता है और ना ही घर में कोई बताने और पढ़ाने वाला है. अपने पिता को हिंदी व छत्तीसगढ़ी में संबोधित करते हुए लिखी है कि उनकी बेटी पढ़ नहीं सकती है. गणित विषय को इंग्लिश में पढ़ाया जाता है. स्कूल में एक सवाल को ही बस पढ़ाते हैं, उसके बाद अपने घर से बना कर लाने के लिए बोलते हैं. सभी के घर में बताते व पढ़ाने वाले हैं लेकिन मेरे घर में कोई बताने वाला नहीं है. मामले में विवेचना अधिकारी हेमंत पाटले का कहना है की प्रथम दृष्टिया शव को देखने से खुदकुशी प्रतीत हो रहा है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मामले का खुलासा हो सकता है.

 

ये भी पढ़ें: 

दंतेवाड़ा-बीजापुर में जवानों का बड़ा ऑपरेशन, टॉप नक्सल लीडर से हुई थी मुठभेड़ 

भूपेश बघेल सरकार को बड़ा झटका, हाईकोर्ट ने कहा- छत्तीसगढ़ में नहीं बढ़ेगा आरक्षण  

जांजगीर में बढ़ा प्रदूषण का स्तर, 200 कारखानों की मॉनिटरिंग भगवान भरोसे 
First published: February 27, 2020, 7:22 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading