राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने की CM भूपेश बघेल की तारीफ, बेटियों के लिए कही ये बड़ी बात
Bilaspur News in Hindi

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने की CM भूपेश बघेल की तारीफ, बेटियों के लिए कही ये बड़ी बात
छत्तीसगढ़ आगमन पर सीएम भूपेश बघेल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का स्वागत किया.

देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) ने केन्द्रीय विश्वद्यालय, बिलासपुर (Bilaspur) में छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सीएम भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) की तारीफ की.

  • Share this:
बिलासपुर. देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) ने केन्द्रीय विश्वद्यालय, बिलासपुर (Bilaspur) में छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सीएम भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) की तारीफ की. गुरु घासीदास केन्द्रीय विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि राष्ट्रपति कोविंद ने कहा- कृषि कार्यों में सीएम भूपेश के नेतृत्व में प्रदेश में अच्छे काम हो रहे हैं. नक्सलवाद से पीड़ित लोगों को रोजगार और शिक्षा के साधन उपलब्ध कराने की भी राज्य सरकार की सराहना राष्ट्रपति ने की.

दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा- सतनाम पंथ के संस्थापक गुरु घासीदास जी के नाम पर रखे गए विश्वविद्यालय में आकर मुझे प्रसन्नता हो रही है. गुरु घासीदास जी के अनुयाय सोमवार के दिन को विशेष शुभ मानते हैं. क्योंकि सोमवार के ही दिन गुरु घासीदास जी का अवतरण हुआ था. गुरु घासीदास जी ने समाज के कमजोर वर्गों वर्गों के लिए संघर्ष किया और सत्य के मार्ग पर चलने का संदेश दिया. उनका संदेश था मन के मनके एक समान यानी सभी मनुष्य एक समान. मुझे गुरु घासीदास जी की जन्मस्थली गिरौदपुरी जाने का भी अवसर प्राप्त हुआ. मैंने वहां जैतखाम के दर्शन भी किए 6 नवंबर 2017 को मुझे उनके अनुयायियों ने जैतखाम की का एक प्रतीक भी भेंट किया जिसे मैंने राजभवन में समुचित स्थान दिया है.





बेटियों के लिए कही ये बात
राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा- स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले में 74 में बेटियों की संख्या 44 है. 6 बेटियों ने 7 मेडल हासिल किए. छात्रा ट्विनी यादव की सराहना करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि दो मेडल प्राप्त करने के बाद छात्रा क्विनी यादव नहीं हैं. बल्कि ट्विन यादव कहलाएंगी. बेटियां हर क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर सकती हैं. नए भारत की एक तस्वीर है जो आज हम सब बेटियों के माध्यम से देख रहे हैं. शैक्षिक जीवन में आप सबको सफलता प्राप्त हुई है, उसमें माता-पिता शिक्षक की महत्वपूर्ण भूमिका है.

सिर्फ डिग्री प्राप्त करना उदृेश्य न हो
राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कहा कि एक बात की ओर ध्यान दिलाना प्रासंगिक है. शिक्षा का मुख्य उद्देश्य केवल डिग्री प्राप्त करना नहीं बल्कि एक अच्छा इंसान बनना है, जो अच्छा इंसान होगा वही अच्छा डॉक्टर होगा वही अच्छा टीचर होगा कोई अच्छा विद्यार्थी होगा और यहां तक कि अगर वह अच्छा इंसान होगा. अच्छा पिता भी हो सकता है. विद्या में नैतिक मूल्यों का होना बहुत जरूरी हैं.

ये भी पढ़ें:
CG Board Exam: परीक्षा के लिए जगाने खोला दरवाजा तो कमरे में फंदे पर लटकी मिली 12वीं की छात्रा 

सामूहिक विवाह में दूल्हे को आई मिर्गी, ज्वाइंट कलेक्टर ने सुंघाया जूता, मंत्री ने किया डांस 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading